प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना को समझ पाने में जो गलती पहली लहर के शांत पडऩे के बाद हुई थी वही दोहराई जा रही है। कोविड प्रोटोकाल का उल्लंघन कदम-कदम पर हो रहा है। इसका अंजाम भी सामने है। दो दिनों से कोरोना के नए मामले लगातार बढ़ रहे हैं। घर से बाहर बेवजह निकलने से लोग बाज नहीं आ रहे हैं। बुधवार को 19 नए लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई, यह स्थिति चिंताजनक है। हालांकि मौत न होने से कुछ राहत है। 20 संक्रमितों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया।

दो दिनों से लगातार बढ़ रहे नए केस, मौत न होने से कुछ राहत

कोरोना की दूसरी लहर का कहर घटने और स्थितियां धीरे-धीरे सामान्य होने पर बाजार अनलाक हो चुके हैं। साप्ताहिक बंदी केवल शनिवार और रविवार की रह गई है। बाजार खुलने और कहीं भी आने जाने में कोई रोक न होने का दुष्परिणाम यह है कि लोग घरों से कोई जरूरी काम न होने पर भी निकल रहे हैं। बाजारों में प्रतिष्ठानों पर, अन्य सार्वजनिक स्थानों, खानपान की दुकानों और फल सब्जी के ठेलों पर भीड़ जुटी रही है और कोविड प्रोटोकाल ताक पर है। यानी अधिकांश लोग न शारीरिक दूरी का पालन कर रहे हैं, न मास्क लगा रहे हैं। हाथ को सैनिटाइज करना भी किसी को याद नहीं। ऐसे में कोरोना संक्रमण एक दूसरे में फिर फैलने लगा है। बता दें कि

 14 जून को नौ लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई थी। 15 जून को नए संक्रमितों की संख्या 17 हो गई और अब 16 जून को 19 नए केस मिले हैं। यानी संक्रमण का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है। शहर व ग्रामीण इलाकों में इसको लेकर सावधानी व सतर्कता की जरूरत फिर महसूस होने लगी है। कोविड-19 के नोडल डा. ऋषि सहाय का कहना है कि कोविड टेस्ट में कोई कमी नहीं होने दी जा रही है। बुधवार को भी 7981 लोगों के नमूने एकत्र किए गए। कहा कि लोग घर से बाहर तभी जाएं जब उन्हें जरूरी काम हो, लेकिन उस समय मास्क, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना न भूलें।

Edited By: Ankur Tripathi