प्रयागराज, जेएनएन। लखनऊ के कारोबारी मोहित जायसवाल को अगवा कराकर देवरिया जेल में पीटने के मामले में सीबीआइ ने पूर्व सांसद अतीक अहमद पर मुकदमा दर्ज किया है। देवरिया जेल में हुए इस कांड के बाद प्रयागराज के प्रापर्टी डीलर समेत तीन लोगों को भी देवरिया जेल में पीटा गया था। यह मामला धूमनगंज थाने में दर्ज हुआ है। नैनी जेल में अतीक के रहने के दौरान पुलिस ने बयान दर्ज करने के लिए अदालत में अर्जी भी दी थी। हालांकि बयान नहीं दर्ज हो सका। चूंकि यह मामला भी देवरिया जेल से जुड़ा है इसलिए धूमनगंज में दर्ज केस का भी सीबीआइ संज्ञान लेगी।  

 अतीक की मुश्किलें और बढऩे वाली हैं

नैनी सेंट्रल जेल से गुजरात की अहमदाबाद जेल में शिफ्ट किए गए अतीक की मुश्किलें और बढऩे वाली हैं। बसपा विधायक रहे राजू पाल हत्याकांड की जांच सीबीआइ को दी गई है। यह मामला चल ही रहा था कि अब सुप्रीम कोर्ट ने देवरिया जेल में पिटाई के मामले की जांच भी सीबीआइ से कराने का आदेश दे दिया। देवरिया जेल में ही प्रापर्टी डीलर मो. खालिद उर्फ जैद, उवैश अहमद व अभिषेक पांडेय को भी अतीक अहमद ने पीटा था। 22 नवंबर 2018 को हुई इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद धूमनगंज में मुकदमा दर्ज हुआ था। इसमें अतीक अहमद, उनके साढ़ू इमरान, बहन के दामाद खालिद जफर व अली अहमद, सद्दाम, मोहम्मद, हमदान, फैसल, तालिब, उसैद, मो. राशिद उर्फ नीलू, विजय राज, अरशद और शाबिर पर केस दर्ज है। मामले में छह आरोपित अभी पुलिस की पकड़ से दूर हैं। 

देवरिया से जुड़े इस मामले में भी सीबीआइ का दखल होगा

अब चूंकि देवरिया कांड की जांच सीबीआइ को मिल गई है, इसलिए देवरिया से जुड़े इस मामले में भी सीबीआइ का दखल होगा। सीबीआइ अफसर लखनऊ की केस डायरी के साथ यहां की जांच रिपोर्ट भी संज्ञान में लेंगे। धूमनगंज पुलिस ने कागजी कार्यवाही पूरी करनी शुरू कर दी है। अब चार्जशीट की तैयारी भी चल रही है। 

बोले एसपी सिटी

एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव का कहना है कि वांछित आरोपितों की तलाश में पुलिस टीमें छापामारी करती रही हैं। क्राइम ब्रांच और धूमनगंज पुलिस को इस मामले में लगाया गया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस