जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : सोरांव के बिगहियां गांव में एक परिवार के चार लोगों की हत्या के मामले में पुलिस ने सीडीआर से जांच आगे बढ़ा दी है। मोबाइल कॉल डिटेल से साफ हुआ है कि कमलेश देवी के जेठ के बेटे मनोज और नवाबगंज में रहने वाले दूसरे दामाद अमर के बीच बातचीत होती रही। फिलहाल दोनों फरार हैं। अमर की तलाश में पुलिस ने मंगलवार को भी नवाबगंज समेत कई इलाकों में दबिश दी। उसके भाई को उठाकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस की एक टीम संपत्ति विवाद में रिश्तेदारों को खंगाल रही है तो दूसरी टीम लूट के बिंदु पर छापामारी कर रही है।

एसएसपी नितिन तिवारी का कहना है कि लूट का बिंदु अभी खारिज नहीं किया गया है। एक टीम को गिरोह की तलाश में लगाया गया है। दूसरी टीम संपत्ति विवाद और रिश्तेदारों को लेकर जांच कर रही है। संपत्ति के विवाद में कुछ ऐसी बातें सामने आई हैं जिससे शक गहराने लगा है लेकिन नामजद आरोपितों से पूछताछ के बाद ही तस्वीर साफ हो सकेगी। कमलेश देवी का दूसरा दामाद टिकरी नवाबगंज निवासी अमर उर्फ शरद पांडेय फरार है। इसी प्रकार पड़ोस में रहने वाला जेठ ओम प्रकाश और उसका बेटा मनोज भी फरार है। पुलिस ने मामले में नामजद पांचों आरोपितों के मोबाइल की डिटेल निकलवाई है। इससे उनके बीच बातचीत होने की तस्वीर साफ हुई है। हालांकि पुलिस मान रही है कि बातचीत होना साजिश की तरफ इशारा नहीं है। आरोपितों को अपनी बात रखनी होगी। उधर, पुलिस ने प्रतापगढ़, मऊआइमा, सोरांव समेत अन्य क्षेत्रों में लूट करने वाले बदमाशों को उठाकर पूछताछ तेज कर दी है। फिलहाल यह मामला दो बिंदुओं पर फंसा है। पुलिस लूट और संपत्ति विवाद के हर पहलू को खंगाल रही है। एसपी गंगापार सुनील सिंह के मुताबिक, कमलेश देवी के दो खातों की जांच की गई है। उसमें दो लाख रुपये के करीब हैं। वारदात से पहले बीस हजार रुपये निकाले गए थे। रिश्तेदारों के बीच आपसी विवाद के साक्ष्य मिले हैं। आरोपितों के मिलने के बाद कई बातों को साफ किया जाएगा।

Posted By: Jagran