प्रयागराज,जेएनएन। पुलिस विभाग के सिपाही आशीष मिश्र खाकी वर्दी की छवि सुधारने में अहम भूमिका निभा रहे हैैं। पुलिस मित्र समूह के संचालक आशीष और उनके साथी रक्तदान के जरिए लोगों का जीवन बचाने की मुहिम चला रहे हैैं। ये पुलिसकर्मी केवल जरूरतमंद को ही खून नहीं देते बल्कि अक्सर रक्तदान शिविर भी लगाते हैैं। यह भी सुखद है कि उनसे प्रेरित होकर अब बड़ी संख्या में लोग स्वैच्छिक रक्तदान करने लगे हैैं।

गरीब और लाचार लोगों की ऐसे मदद कर सुकून मिलता है

2011 बैच के सिपाही आशीष मिश्र शुरू से सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहे हैैं। बीमार, लाचार, गरीबों की मदद में उन्हें आत्मिक सुकून मिलता है। उन्होंने रक्तदान कर लोगों के जीवन की रक्षा करने का अभियान शुरू कर दिया। आइजी रेंज कार्यालय में तैनात आशीष ने तीन साल पहले फेसबुक और वाट्सएप पर पुलिस मित्र समूह बनाया। जिसमें सिपाही, दारोगाओं के साथ ही पीपीएस और आइपीएस भी जुड़े हैैं। कई आइपीएस अधिकारी अक्सर उनके समूह के लिए रक्तदान करते हैैं। मौजूदा आइजी रेंज केपी सिंह भी उनके शिविर में कई बार रक्तदान कर चुके हैं।

इस सामाजिक पहले के लिए डीजीपी ने किया है सम्‍मानित

कुंभ मेले के दौरान डीजीपी ओपी सिंह ने भी सामाजिक दायित्वों को निभाने के लिए आशीष को सम्मानित किया था। मूल रूप से मीरजापुर जिले के लालगंज क्षेत्र के रहने वाले आशीष मिश्र कहते हैैं कि पुलिस का काम ही जन सेवा है। वह अपने सहकर्मियों और वरिष्ठ अधिकारियों के सहयोग से जनता की सेवा कर अपना दायित्व निभा रहे हैैं। पत्नी निधि इस नेक काम में उनकी पूरी मदद करती हैैं। अब तक 12 बार रक्तदान कर चुके आशीष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर माघ मेले में रक्तदान शिविर लगा रहे हैैं। उनकी अपील पर पुलिस मित्र समूह से जुड़े लोग अपने जनपद में रक्तदान के लिए तत्पर रहते हैैं।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस