प्रयागराज : मऊआइमा थाना क्षेत्र के सराय अलाउद्दीनपुर गांव निवासी रिटायर्ड कर्मचारी इंद्रराज पाल के घर डकैती व हत्या की घटना में कुल छह बंजारे शामिल थे। सभी प्रतापगढ़ के रानीगंज इलाके के रहने वाले हैं। वारदात से करीब आठ दिन पहले वह गांव के पास आकर रुके थे। इसके बाद पूरे घर की रेकी कर रहे थे।

पुलिस को बंजारों के नाम पता चले, घरों से हैं फरार

वारदात की तफ्तीश में जुटी मऊआइमा पुलिस को यही जानकारी हाथ लगी है। घटना में शामिल बंजारों के नाम भी पता चल गए हैं, लेकिन वह अपने घरों से फरार हैं। उनके परिजनों को हिरासत में लेकर पुलिस द्वारा पूछताछ की जा रही है। उधर साजिश में शामिल तीन युवकों को उठाकर जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो घटना को अंजाम देने वालों का नाम सामने आ गया।

गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही पुलिस टीम

अब गिरफ्तारी के लिए एक टीम प्रतापगढ़ तो दूसरी टीम सरायइनायत में दबिश दे रही है। कहा जा रहा है कि आरोपितों का कनेक्शन हनुमानगंज सुदनीपुर निवासी रिटायर्ड कर्मचारी ठाकुर प्रसाद मिश्रा के घर हुई वारदात से भी हो सकता है। कुछ दिन पहले डकैतों ने इंद्रराज पाल के घर धावा बोला था। लूटपाट का विरोध करने पर उनके बेटे सत्येंद्र पाल उर्फ मोनू की हत्या कर दी। पत्नी पुष्पा देवी, बेटी कंचन और साली चंपा देवी को पीटकर घायल कर दिया था। सभी को बंधक बनाने के बाद आलमारी में रखे डेढ़ लाख नकद व करीब पांच लाख के जेवरात लेकर फरार हो गए थे।

कहते हैं इंस्पेक्टर मऊआइमा

इंस्पेक्टर मऊआइमा राजकिशोर का कहना है कि डकैतों की तलाश में पुलिस टीम लगातार दबिश दे रही है। उन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस