प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ नगर के सांगीपुर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा का श्रद्धालु रसपान कर रहे हैं। कथा व्यास अयोध्या धाम के आचार्य श्रीराम मिश्र ने कहा कि प्रभु की आराधना सदैव शुद्ध मन से करनी चाहिए।  ईश्वर की कृपा उसी को सुलभ हुआ करती है, जिसका मन धर्मानुरागी हो और विचारों में निर्मलता हो। आचार्य ने कहा कि जो व्यक्ति भगवान के प्रति आस्था बनाए रखता है, उसका जगत में सर्वत्र मंगल हुआ करता है। कथा व्यास ने कहा कि श्रीमद्भागवत मनुष्य को अहंकार से मुक्ति व नैतिक जीवन के लोक-मंगल की प्रेरणा देता है। कथा के दौरान हरे-कृष्ण, हरे-राधे संकीर्तन में श्रद्धालु भाव विभोर दिखे। इस मौके पर संयोजक शिवमूर्ति दुबे, मालती, सभासद करूणा शंकर दुबे, गिरिजा शंकर उर्फ भल्लू दुबे, नगर पंचायत अध्यक्ष अनीता द्विवेदी, मंजू तिवारी, प्रेमशंकर दुबे, प्रदीप मिश्र, अंबुज पांडेय, श्याम नारायण दुबे, रामराज दुबे, श्रीनाथ तिवारी, चंद्रप्रकाश दुबे, शिव कुमार दुबे, सदाशिव यादव, धर्मेंद्र दुबे, नीरज, धीरज, पंकज आदि मौजूद रहे।

नशामुक्त समाज के लिए जागरूकता जरूरी

नशा समाज के वातावरण को दूषित करने का कार्य करता है। यह बातें मुस्तफाबाद के पूरे मिश्रन गांव में ब्राम्हण स्वाभिमान एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश तिवारी ने कही। उन्होंने कहा कि समाज में नशा को जगह नहीं मिलनी चाहिए। समाज का वातावरण नशामुक्त हो इसके लिए लोगों को जागरूक करना होगा। नशे की लत मनुष्य को तामसी बना देता है। इससे राक्षसी प्रवृत्ति बढ़ जाती है।  वक्ताओं ने कहा कि दहेज प्रथा भी समाज को दूषित कर रही है। ऐसे लोगों का समाज से बहिष्कार कर देना चाहिए। अध्यक्षता विजय कुमार मिश्र व संचालन राहुल पांडेय ने किया। इस मौके पर तमाम लोग मौजूद रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021