प्रयागराज,जेएनएन।  बच्चों की रुचि, क्षमता और प्रतिभा के अनुसार खेल का चयन करें। खासकर क्रिकेट फोबिया से बचने की जरूरत है। कभी भी बच्चों पर अपनी मर्जी न थोपें। यह कहना है ओलंपियन अभिन्न श्याम गुुप्ता का।

खिलाडिय़ों और अभिभावकों के सवालों के दिए जवाब

अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन खिलाड़ी व ओलंपियन अभिन्न श्याम गुप्ता दैनिक जागरण के डिजिटल मंच फेसबुक लाइव के जरिए खेल प्रेमियों से रूबरू हुए। करीब चालीस मिनट के लाइव कार्यक्रम में उन्होंने खिलाडिय़ों और अभिभावकों के सवालों के जवाब दिए। साथ ही बताया कि कैसे शिखर तक पहुंचा जा सकता है।

 बच्‍चों को किसी न किसी खेल से जुडकर ग्राउंड तक जाना जरूरी

एक सवाल के जवाब में कहा कि अभिभावक अपने बच्चों को निकट के स्‍पोटर्स काम्प्लेक्स में ले जाएं। वहां के प्रशिक्षित कोच से बच्चों के संदर्भ में चर्चा करें, जिससे उनकी प्रतिभा और क्षमता का सही मूल्यांकन हो सके। उसके बाद भी किसी खेल का चयन करना बेहतर होगा। यह भी कहा कि आज के दौर में सभी बच्चों को अनिवार्य रूप से किसी न किसी खेल से जुड़कर ग्राउंड तक जाना चाहिए।

घर में रहकर फिटनेस बनाने का प्रयास करें

कोरोना काल के खास परिप्रेक्ष्य में बताया कि अभी घर पर ही रहकर फिटनेस बनाने का प्रयास करें। विशेषकर जो बैडमिंटन के खिलाड़ी हों वे वॉल प्रेक्टिस करें। घर पर रहकर यू ट्यूब पर पुराने मैच देखें। इससे खेल की बारीकियां भी पता चलेंगी। बाद में जब कोर्ट पर पहुंचेंगे तो व्यावहारिक ढंग से खेल को सुधारने में मदद मिलेगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस