प्रयागराज : चौक में दिनदहाड़े 10.30 लाख रुपये की लूट करने वाले शातिर लुटेरे अभी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। पुलिस कारोबारी और उसके पुराने कर्मचारियों से पूछताछ कर रही है। इसके बाद भी कोई खास सुराग हाथ नहीं लग सका।

क्या था मामला

सोमवार सुबह कारोबारी के कर्मचारी अमित व भगवानदास पैसा लेकर बैंक में जमा करने जा रहे थे, तभी बाइक सवार बदमाशों ने असलहे के बल पर लूट लिया था।

फर्म के दो कर्मचारी नौकरी छोड़ चुके हैं

पुलिस को पता चला है कि कारोबारी संजय अग्रवाल, अनिल अग्रवाल की फर्म में काम करने वाले दो कर्मचारी नौकरी छोड़ चुके हैं। दोनों खुल्दाबाद के रहने वाले हैं। एक युवक ने पांच दिन काम किया था। क्राइम ब्रांच की टीम ने तीनों कर्मचारियों से अलग-अलग पूछताछ की। इसके बाद टीम ने यमुनापार के कई संदिग्ध ठिकानों पर दबिश दी। वहां से कुछ संदिग्ध बदमाशों को पूछताछ के लिए उठाया गया है। वहीं, एजेंट अमित के मोबाइल की कॉल डिटेल रिपोर्ट से पता चला है कि उसने लखनऊ के एक शख्स से बात की थी। पुलिस ने जब उससे बात की तो कोई ऐसी जानकारी नहीं मिली, जिससे कर्मचारी की भूमिका पर संदेह किया जा सके।

कहते हैं एसपी सिटी

एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव का कहना है कि टीम लगी है। अभी तक लुटेरों के बारे में कोई खास सुराग नहीं मिला है, लेकिन जल्द ही पता लगाकर गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

कारोबारी नाराज, सौंपा ज्ञापन

लूटकांड का राजफाश न होने से कारोबारियों में काफी नाराजगी है। इस संबंध में अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के प्रशांत पांडेय, पवन केशरी, नमनजोत सिंह, गोपाल कृष्ण अग्रवाल और सुशांत केसरवानी जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप चुके हैं। उन्होंने डीएम से लुटेरों को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की। वहीं कारोबारियों ने सुलेम सरांय के व्यापारी अशोक वैश्य के घर हुई चोरी व बैग व्यापारी से लूट का भी जल्द पर्दाफाश करने की मांग दोहराई।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस