प्रयागराज, जेएनएन। लेवल वन के कोविड-19 अस्पताल कोटवा सीएचसी में इलाज में लगी डॉक्‍टराें की टीम-बी की रिपोर्ट निगेटिव आई तो उन्हेंं घर जाने की अनुमति दी गई। टीम बी में कुल 25 सदस्य थे। इसमें छह डॉक्टर, छह नर्स समेत, फार्मासिस्ट, वार्डब्वाय और स्वीपर शामिल रहे। यह टीम तीन शिफ्टों में लगातार 14 दिन तक इलाज में लगी थी। 14 दिन के बाद यह पैसिव क्वारंटाइन में चले गए और टीम सी सक्रिय हो गई।

14 दिनों तक पैसिव क्वारंटाइन में थे टीम के सदस्‍य

14 दिनों तक पैसिव क्वारंटाइन की अवधि पूरा होने पर सभी की जांच कराई गई जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। अधीक्षक डॉ. अमृतलाल यादव ने बताया कि टीम के प्रत्येक सदस्य ने कोरोना के मरीजों के इलाज में पूरी तत्परता दिखाई है। टीम बी में डॉ. अतुल कुमार, डॉ. अनुराग श्रीवास्तव, डॉ. आनंद पाल यादव, डॉ. नितिन यादव, डॉ. अभय कुशवाहा, डॉ. देवेंद्र मणि त्रिपाठी समेत अन्य सदस्य शामिल रहे।  

फिजिकल डिस्‍टेंसिंग व मास्क की अनदेखी, 131 पर मुकदमा

 लॉकडाउन-4 में जिला प्रशासन ने कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने के लिए कुछ शर्तों के साथ कारोबार करने की अनुमति दी लेकिन लोग गंभीर नहीं हुए। कटरा बाजार में शारीरिक दूरी और मास्क लगाने जैसी शर्तें तार-तार हो गई। कर्नलगंज पुलिस ने बाजार का निरीक्षण किया और वीडियोग्राफी की। इस दौरान बिना मास्क के मिले 131 कारोबारियों और ग्राहकों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।

निर्देशों की अनदेखी पर दुकानदारों के खिलाफ मुकदमा

इंस्पेक्टर कर्नलगंज अरुण त्यागी के मुताबिक, कटरा चौकी प्रभारी के साथ उन्होंने बाजार का जायजा लिया तो दुकानों में शारीरिक दूरी पर ध्यान नहीं दिया जा रहा था। ग्राहक एक मीटर तो क्या एक गज की भी दूरी नहीं बनाए हुए थे। खुद दुकानदार इससे बेपरवाह थे। शासन से भी मास्क लगाना अनिवार्य घोषित किया जा चुका है जिसमें पांच सौ रुपये तक जुर्माना का प्रावधान है मगर बाजार में पुलिस को नब्बे फीसद दुकानदार बिना मास्क मिले। पुलिस ने ऐसे 131 दुकानदारों और ग्राहकों के नाम नोट करने के बाद धारा 188 और महामारी अधिनियम की धारा में मुकदमा लिखा।

पुलिस से भिड़कर भागा कार सवार गिरफ्तार

सिविल लाइंस इलाके में पुलिस के रोकने के बावजूद जबरन बैरीकेडिंग में कार लेकर घुसने और धक्का मारकर भागने के आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि फूलपुर इलाके में सोराई के रविप्रकाश उपाध्याय ने पुलिस से बदसलूकी भी की थी। पुलिस ने कार नंबर के सहारे उसका पता लगाने के बाद शुक्रवार को गिरफ्तार किया। उसके खिलाफ मुकदमा लिखा गया है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस