प्रयागराज, जागरण संवाददाता। एंबुलेंस स्टाफ की 23 जुलाई से चल रही हड़ताल ने प्रदेश में हजारों परिवारों पर आर्थिक संकट का खतरा उत्पन्न कर दिया है तो कई लोगों के लिए 'आपदा में अवसर के द्वार भी खोल दिए हैं। एंबुलेंस सेवा का टेंडर राज्य में जीवीके ईएमआरआइ के पास है और इस एजेंसी ने हड़ताल पर चल रहे कर्मचारियों को धीरे-धीरे बर्खास्त कर नई भर्तियां भी शुरू कर दी है। रविवार को पुलिस लाइन तथा परेड मैदान में एंबुलेंस पायलट व ईएमटी (इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन) की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। सोमवार को भी भर्ती प्रक्रिया जारी रही। भर्ती होने के लिए बड़ी संख्या में युवक पुलिस लाइन और परेड मैदान पर पहुंचे थे।

बर्खास्तगी से बचना हो तो काम पर लौटें

नए कर्मचारियों की भर्ती के लिए लखनऊ से एजेंसी ने अपनी एचआर टीमें भेजी हैं। एक टीम प्रयागराज भी आई है। पुलिस लाइन में अभ्यर्थियों का इस टीम ने आवेदन लिया। ईएमटी और पायलट/ कैप्टन पद पर निर्धारित योग्यता और अनुभव के तहत लिखित और मौखिक परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा की प्रक्रिया पुलिस लाइन में होने के बाद अभ्यर्थियों को परेड मैदान पर ले जाकर उनसे एंबुलेंस चलवाकर देखी गई। जीवीके ईएमआरआइ के मीडिया प्रभारी सुनील कुमार यादव ने बताया कि कितने पदों पर भर्ती हो रही है यह फिलहाल निर्धारित नहीं है। कुछ कर्मचारियों को बर्खास्त किया गया है। उन्हीं से रिक्त हुई कमी को पूरा करने के लिए भर्ती प्रक्रिया अपनाई जा रही है। हड़ताली कर्मचारियों के पास वापस लौटने का अब भी मौका बचा है। यदि बर्खास्तगी से बचना हो तो काम पर लौटें। बताया कि रविवार के बाद सोमवार को भी सुबह 10 से चार बजे तक भर्ती प्रक्रिया पूरी की गई।​​​​​

Edited By: Ankur Tripathi