प्रयागराज, जेएनएन। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का समर्थन किया है। परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने विशेषकर मुस्लिम धर्मगुरुओं से अपील की है कि वह नागरिकता संशोधन कानून को समझें एवं लोगों को समझाने का प्रयास करें। नागरिकता संशोधन कानून देशहित में है। इससे आतंकवाद में कमी आएगी।

बोले-हिंसा करने वालों पर राष्ट्रदोह का मुकदमा दर्ज कर जेल में डाला जाए

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने जारी एक बयान में कहा कि गृहमंत्री अमित शाह ने संसद के दोनों सदनों में स्पष्ट कहा है कि भारत में रहने वाले मुसलमानों को इससे चिंता करने की जरूरत नहीं है। महंत ने सवाल किया कि जब मुसलमान देश के नागरिक हैैं तो यह ङ्क्षहसक प्रदर्शन क्यों किया जा रहा है? उन्होंने हिंसा करने वालों पर राष्ट्रदोह का मुकदमा करके जेल में डालने की मांग की।

कहा-ट्वीट कर लोगों को भड़काने वाले मुनव्वर राणा पर भी केस दर्ज हो

महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि शायर मुनव्वर राणा ने ट्वीट करके लोगों को भड़काया है, ऐसे में उन पर भी राष्ट्रदोह का मुकदमा कायम होना चाहिए। उनके ट्वीट पर कहा कि अगर ङ्क्षहदू धर्मगुरुओं का इस तरह का वक्तव्य होगा तो गोधरा कांड जैसी पुनरावृत्ति हो सकती है। उन्होंने कहा कि ङ्क्षहसा में सरकारी संपत्ति को नुकसान करने वालों की संपत्ति कुर्क कर भरपाई करने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश का भी अखाड़ा परिषद समर्थन करता है। सवाल किया कि शुक्रवार को जुमा की नमाज के नाम पर लोगों को एकत्रित करके मुस्लिम धर्मगुरुओं ने ङ्क्षहसा के लिए जिस तरह भड़काया क्या वह उचित है? कहा कि देश में 86 प्रतिशत ङ्क्षहदूू हैैं और ङ्क्षहदू हमेशा अङ्क्षहसा पर भरोसा रखता है। जब कोई ङ्क्षहदू धर्म को चुनौती देता है तो गोधरा कांड जैसी पुनरावृत्ति होती है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस