प्रयागराज, जेएनएन। माघ मेले में विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय मार्ग दर्शक मंडल की बैठक 19, 20 और 21 जनवरी को होगी। इसमें पहले दो दिन हिंदुत्व पर चर्चा और तीसरे दिन संत सम्मेलन होगा। इस आयोजन में विहिप के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल के सभी प्रांतों के धर्माचार्य शामिल होंगे। बैठक में अयोध्या में प्रस्तावित श्रीराम मंदिर निर्माण तथा इसके लिए ट्रस्ट की भूमिका पर गंभीर मंथन होगा। साथ ही मंदिर निर्माण के लिए देश के नागरिकों से आर्थिक सहयोग जुटाने पर भी मंथन हो सकता है। देश भर से 100 करोड़ रुपये से अधिक जुटाने की गुपचुप तैयारी है।

संन्यासी मंडल की बैठक होनी है, जिसमें कई मुद्दों पर निर्णय होना है

अयोध्या के श्रीराम मंदिर आंदोलन में विश्व हिंदू परिषद की अग्रणी भूमिका रही है। माघ और कुंभ मेले में इस पर धर्म संसद के जरिए गंभीर मंथन भी होता रहा है। उच्चतम न्यायालय से नौ नवंबर को निर्णय सुनाए जाने के बाद विहिप ने प्रयास और तेज कर दिया है। 22 दिसंबर को मंगलौर में केंद्रीय संन्यासी मंडल की बैठक होनी है, जिसमें कई मुद्दों पर निर्णय होना है। इसके बाद जनवरी में तीन दिवसीय बैठक माघ मेला क्षेत्र में प्रस्तावित है। इसमें विहिप का केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल राम मंदिर निर्माण के मामले में चर्चा करेगा।

विहिप के पदाधिकारी सीधे तौर पर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं

उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर ट्रस्ट बनाना सरकार का दायित्व है और ट्रस्ट को ही मंदिर निर्माण कराना है ऐसे में विहिप के पदाधिकारी सीधे तौर पर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं। विहिप के काशी प्रांत के पदाधिकारी कहते हैं कि 15 दिनों पहले से उनका सदस्यता अभियान चल रहा है। जिसमें संगठन से जुडऩे वाले नए सदस्य से निर्धारित शुल्क लिया जा रहा है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस