प्रयागराज, जेएनएन। शहर के सिविल लाइंस बस अड्डे के पास वाराणसी के पान कारोबारी से खुद को एसटीएफ का जवान बताकर चेकिंग के नाम पर पांच लाख रुपये लूटने वाले गिरोह का एक बदमाश तो कुछ ही देर बाद पकड़ गया था लेकिन बाकी तीन अपराधी लूट की रकम समेत फरार हैं। वे भोपाल में भी नही मिल रहे हैं। 

बाइक पर आए थे भोपाल से गिरोह के लुटेरे

सिविल लाइंस बस स्टेशन के पास पांच दिन पहले वाराणसी के पान व्यवसायी राम आसरे चौरसिया से हुई पांच लाख की लूट के मामले में फरार बदमाशों की गिरफ्तारी को लेकर रविवार को ही पुलिस भोपाल पहुंच गई। स्थानीय पुलिस के साथ सभी बदमाशों के घर पर दबिश दी गई, लेकिन वे नहीं मिले। हालांकि, उनके ठिकानों और करीबियों के बारे में पुलिस को महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस रवींद्र प्रताप सिंह का कहना है कि गिरफ्तार बदमाश अमजद अली निवासी भोपाल से पूछताछ के बाद ही फरार तीनों बदमाशों के घर पर दबिश दी जा रही है और जल्द ही सफलता मिलेगी। ये सभी अपराधी भोपाल से बाइक पर यहां आए थे।

साल भर पहले हुए बवाल के आरोपित पिता-पुत्र  बंदी

जार्जटाउन पुलिस ने पिछले वर्ष मार्च माह में होली पर तुलारामबाग में हुए बवाल के मामले में आरोपित चंद्रमा प्रसाद यादव और उसके पुत्र को रविवार की रात गिरफ्तार कर लिया। उन दोनों से पूछताछ की गई फिर हवालात में बंद कर दिया गया। तुलारामबाग का रहने वाला चंद्रमा प्रसाद यादव जार्जटाउन थाने का हिस्ट्रीशीटर है। उस पर कई मुकदमे दर्ज हैं। पिछले वर्ष होली पर हुए बवाल और जानलेवा हमले के मामले में वह और उसका पुत्र नामजद था। पुलिस उसकी तलाश में लगी थी, लेकिन वह चोरी-छिपे देव बिहार कटका झूंसी में रहता था। रविवार को इंस्पेक्टर जार्जटाउन शिशुपाल शर्मा को जानकारी मिली कि चंद्रमा अपने पुत्र के साथ केपी कालेज के पास मौजूद है। सूचना पाते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची और उसे व उसके पुत्र को गिरफ्तार कर लिया।

Edited By: Ankur Tripathi