प्रयागराज, जागरण संवाददाता। साइबर ठगी के नित नए मामले सामने आते रहते हैं, जिन्हें कई बार आपने खबरों में जाना या पढ़ा होगा। साइबर ठगों के तरीके से जागरूक होकर जहां लोग सावधान हो रहे हैं तो वहीं, ये ठग नए पैंतरे निकाल ठगी को अंजाम देते हैं। साइबर ठगों ने फिर से एक पैंतरा निकाला है, जिससे बीएसएनएल का सिम इस्तेमाल करने वालों को अपने निशाना बनाया जा रहा है। अगर आप भी बीएसएनएल का नंबर यूज करते हैं तो यह खबर आपके लिए ही है।

आपके मोबाइल पर अगर सिम बंद होने का मैसेज आ रहा है, तो यह वक्त सावधान होने का है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह साइबर अपराधियों की एक चाल है, अगर आप भी केवाईसी अपडेट कराकर नंबर चालू रखने के फेर में पड़े, तो आपका खाता खाली हो सकता है। अगर आपको नहीं समझ आया यह कैसे होगा तो आइए हम समझाते हैं…

यह है मामला

जानसेनगंज के आशुतोष पिछले कई सालों से बीएसएनएल का नंबर इस्तेमाल कर रहे हैं। इन दिनों उनके व्हाट्सएप पर एक पीडीएफ आया, जिसमें ऊपर बीएसएनएल का लोगो लगा था। उसमें लिखा था कि केवाईसी अपडेट नहीं होने के कारण उनका नंबर अगले 24 घंटे के अंदर बंद कर दिया जाएगा। नीचे के कस्टमर केयर के नाम पर किसी रोहित का नाम और नंबर अंकित था। 

उन्होंने रोहित के नंबर पर काल किया तो उसने केवाईसी अपडेट करने के लिए प्ले स्टोर से एक एप डाउनलोड करने काे कहा, जो कि एनी डेस्क था। मामले को भांपते हुए उन्होंने फोन को काट दिया और बीएसएनएल आफिस में पता किया तो मालूम पड़ा कि ऐसी कोई सूचना बीएसएनएल की ओर से नहीं भेजी गई है। 

क्या है एनी डेस्क

रोहित ने आशुतोष को जो एप डाउनलोड करने को कहा था , वह एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल को आपरेट करने में इस्तेमाल किया जाता है। एप के माध्यम से रोहित आशुतोष के फोन को रिमोट पर लेकर उनके खाता समेत सभी गोपनीय जानकारी प्राप्त कर सकता था।

बाेले अधिकारी

बीएसएनएल के जनसंपर्क अधिकारी आशीष कुमार गुप्ता ने बताया कि बीएसएनएल की ओर से सिम बंद होने का मैसेज किसी को भी नहीं भेजा जा रहा है। अगर उपभोक्ताओं के पास ऐसा कोई मैसेज आता है, तो नंबर को ब्लाक कर वह आफिस में संपर्क कर सकते हैं।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट