प्रयागराज, जेएनएन। कहते हैं कि गेहूं के साथ घुन भी पिस जाता है। यह मुहावरा यहां चरितार्थ होता नजर आ रहा है। क्योंकि विभाग की सख्ती से उन लोगों को भी बिजली कटौती का सामना करना पड़ सकता है, जो नियमित रूप से बिल जता करते हैं और वाजिब उपभोक्ता हैं। क्योंकि बिजली विभाग के अधिकारी ऐसे फीडरों को चिह्नित कर रहे हैं, जहां बिल कम जमा हो रहा है। यानी बिजली चोरी भी हो रही है। ऐसे में इन फीडरों से संबंधित मोहल्लों के लोगों को कटौती का सामना करना होगा।

जितना बिल पेमेंट हो रहा, उतनी ही मिलेगी बिजली

पहले भुगतान पर बिजली मिलने का नियम लागू होने के बाद अब विद्युत विभाग उन फीडरों उतनी ही बिजली देगा जितना वहां से पेमेंट हो रहा है। शहर के 16 ऐसे फीडर चिह्नित किए गए हैं जहां सबसे कम बिल जमा होता है। बिल की सबसे कम वसूली करेली और करैलाबाग के आठ फीडरों पर है। यहां बिजली खपत के मात्र 30 से 40 फीसद ही बिल की वसूली हो पा रही है। इन फीडरों पर सबसे ज्यादा बिजली चोरी भी हो रही है। इन फीडरों पर 40 फीसद से ज्यादा बिजली चोरी दर्ज भी हुई है। इसके अलावा बमरौली के कसारी-मसारी, म्योहाल के बेली के फीडरों से जुड़े मोहल्लों से भी बिल की वसूली कम हो रही है।

16 फीडर चिह्नित, इनसे 45 मोहल्ले जुड़े हैं

ऐसे 16 फीडरों को चिह्नित कर लिया गया है जहां कटौती की जाएगी। इन फीडरों से शहर के 45 मोहल्ले जुड़े हैैं। अगले माह से यहां बिजली कटौती की जाएगी। जिस भी फीडर से 51 प्रतिशत से कम बिजली के बिल की वसूली होगी, वहां बिजली कटौती की जाएगी। कटौती के समय को अभी निर्धारित नहीं किया गया है। सुबह, दोपहर, शाम और रात में कई बार कटौती करने का प्रस्ताव तैयार हुआ है। इसके लिए जल्द ही विभाग के उच्चाधिकारियों की महत्वपूर्ण बैठक भी होने वाली है। इस व्यवस्था वे उपभोक्ता भी प्रभावित होंगे जो नियमित बिल जमा करते हैं।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप