प्रयागराज, जागरण संवाददाता। कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान 21 अप्रैल को दिवंगत हुए डाक कर्मचारियों के राष्ट्रीय फेडरेशन के नेता टीपी मिश्र को साथियों ने प्रधान डाकघर में श्रद्धांजलि दी। इसमें ट्रेड यूनियन, समाज के अन्य क्षेत्रों से बुद्धिजीवी, संस्कृति कर्मी शामिल हुए।

फूलपुर की सांसद केसरी देवी, अन्य ट्रेन यूनियन के नेता रहे मौजूद

टीपी मिश्रा ने सक्रिय रूप से चार दशक तक पोस्टल कर्मचारियों और केंद्रीय कर्मचारियों की नुमाइंदगी की थी। उनके इस योगदान को रेखांकित करने के लिए शनिवार को नेशनल फेडरेशन आफ पोस्टल इम्प्लाइज के राष्ट्रीय महासचिव आरएन पाराशर, अविनाश कुमार मिश्रा, टीपी मिश्र की पत्नी उर्मिला मिश्र, उनके पुत्र आइएएस अधिकारी प्रवीण मिश्र, पुत्री प्रज्ञा मिश्र, एजी आफिस के पूर्व राष्ट्रीय नेता कृपाशंकर अवस्थी, प्रमोद मिश्र, एजी ब्रदरहुड के पूर्व अध्यक्ष हरिशंकर तिवारी, नेहरू ग्राम भारती विश्वविद्यालय के कुलाधिपति जेएन मिश्र, वरिष्ठ ट्रेड यूनियन नेता हरिश्चन्द्र द्विवेदी, सीटू के प्रदेश अध्यक्ष रविशंकर मिश्र, महासचिव प्रेमनाथ राय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के प्रो. सूर्यनारायण, नार्थ सेंट्रल रेलवे इम्प्लाइज संघ से एसके मिश्र, समेत कई अन्य कर्मचारी नेता उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम के दौरान फूलपुर की सांसद केसरी देवी पटेल ने भी उपस्थित होकर श्रद्धांजलि दी। अध्यक्षता कन्फडरेशन आफ सेंट्रल गवर्नमेंट इम्प्लाइज एंड वर्कर्स के प्रदेश अध्यक्ष सुभाषचंद्र पांडेय ने की। संचालन प्रमोद राय ने किया।

मूर्ति का अनावरण और पुस्तिका का विमोचन

इस अवसर पर स्व. टीपी मिश्रा की मूर्ति का अनावरण किया गया और उनके द्वारा रचित लेख और कविताओं के संग्रह 'मैं नेता-कवि-किसान-चाकर पुस्तिका का विमोचन भी हुआ।

Edited By: Ankur Tripathi