प्रयागराज : इलाहाबाद विश्वविद्यालय  और हॉस्टल में पुलिस बिना अनुमति के अब प्रवेश नहीं कर सकेगी। छात्रसंघ पदाधिकारियों और छात्रों की नाराजगी के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस पर रोक लगा दी है। हालांकि करीब तीन माह पहले परिसर में अराजक होती स्थिति को देखते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन ने पुलिस को बिना अनुमति घुसने की इजाजत दी थी।

चीफ प्राक्टर ने कमिश्नर, डीएम व एसएसपी को पत्र भेजा

चीफ प्रॉक्टर प्रो. आरएस दुबे ने इस संबंध में एसएसपी, जिलाधिकारी और मंडलायुक्त को भी पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि विश्वविद्यालय परिसर में कुलपति, कुलानुशासक के अनुरोध व अनुमति के बिना पुलिस बल प्रवेश न करे। छात्रावासों में भी प्रवेश करने के लिए अधीक्षक व चीफ प्रॉक्टर से अनुमति लेनी होगी। यह भी कहा गया है कि छात्रसंघ भवन पर पदाधिकारियों की गरिमा व परंपरा का ध्यान रखते हुए किसी भी पदाधिकारी से दुव्र्यवहार न किया जाए। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि विश्वविद्यालय प्रशासन के यूटर्न लेने से परिसर में अराजकता का माहौल बढ़ सकता है।

छात्रों ने कहा, होगी आरपार की लड़ाई 

उधर पिछले दिनों पुलिस की पिटाई से नाराज छात्रों ने आरपार की लड़ाई लडऩे की बात कही है। छात्रसंघ उपाध्यक्ष अखिलेश यादव, मंत्री शिवम व अतेंद्र ने कहा कि पुलिस ने जिस तरह से उनके साथ बर्ताव व दुव्र्यवहार किया है। उससे छात्रसंघ की गरिमा को ठेस पहुंची है। भविष्य में इस तरह की घटना होने पर छात्र सड़क पर उतरकर स्वाभिमान की रक्षा की लड़ाई लड़ेंगे। छात्रों का यह भी कहना है कि उन्हें साजिश के तहत फंसाया गया है, जिसका पुरजोर विरोध किया जाएगा।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप