प्रयागराज : इलाहाबाद विश्वविद्यालय के सभी 11 हॉस्टलों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। निजी सुरक्षा गार्ड के साथ ही पुलिस की तैनाती होगी। मुख्य द्वार के अलावा हॉस्टल के सभी रास्ते पूरी तरह से बंद कर दिए जाएंगे ताकि बाहरी व्यक्ति प्रवेश न कर सकें। अंत:वासियों के लिए बाकायदा रजिस्टर होगा, जिस पर उनकी उपस्थिति दर्ज की जाएगी। बाहरी छात्रों को कमरों में बुलाकर पार्टी करने वाले छात्रों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। 

 ...ताकि हॉस्टलों में शैक्षणिक माहौल बेहतर हो सके

यह व्यवस्था पुलिस और विश्वविद्यालय प्रशासन मिलकर बनाएगा ताकि हॉस्टलों में शैक्षणिक माहौल बेहतर हो सके और आपराधिक गतिविधियों पर पूरी तरह से अंकुश लग सके। इसकी तैयारी भी शुरू हो गई है। अभी तक पीसीबी और ताराचंद हॉस्टल में कमरों की जांच और अवैध अंत:वासियों को बाहर किया गया है। इसके बाद केपीयूसी, एसएसएल, एएन झा, मुस्लिम बोर्डिंग और ङ्क्षहदू छात्रावास समेत अन्य हॉस्टलों में 'आपरेशन क्लीन अनवांटेंड आउट' चलाया जाएगा। 

भोजन की व्यवस्था बेहतर बनाने की कवायद

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि हॉस्टल में खाने की व्यवस्था ठीक न होने के कारण ही अंत:वासी हीटर का इस्तेमाल करते हैं। खाने को लेकर ही गेस्ट हाउस कांड जैसी घटनाएं हुई हैं। ऐसे में छात्रों के भोजन की व्यवस्था बेहतर बनाने के लिए भी विश्वविद्यालय प्रशासन से चर्चा की गई है। 

सिंगल शीट कमरे में रह रहे थे तीन छात्र 

ताराचंद हॉस्टल में कार्रवाई के दौरान विश्वविद्यालय प्रशासन की लापरवाही भी सामने आई। पता चला कि हॉस्टल सिंगल शीटर है। यानी एक कमरे में केवल एक छात्र ही रह सकता है, लेकिन वहां तीन-तीन छात्र रहते थे। उनके तख्त, चारपाई समेत अन्य सामान को कब्जे में लिया गया है। कर्नलगंज इंस्पेक्टर अनूप सिंह का कहना है कि कमरों में एक से अधिक रहने वाले छात्र ही अवैध थे। हॉस्टल से जिस तरह के वस्तुएं बरामद हुई हैं, उससे साफ है कि तमाम अपराधिक प्रवृत्ति के युवकों को यहां पनाह मिलती थी। 

बोले सीओ, हॉस्टलों में अराजकता बर्दाश्त नहीं होगी

सीओ कर्नलगंज श्रीशचंद्र का कहना है कि हॉस्टलों में सीसीटीवी कैमरा लगाने और जरूरी पुलिस फोर्स की तैनाती के साथ कई तरह की व्यवस्था की जाएगी। अब किसी भी दशा में हॉस्टलों में अराजकता बर्दाश्त नहीं होगी। इसके लिए जरूरी प्लान तैयार किया जा रहा है। 

 

Posted By: Brijesh Srivastava