प्रयागराज, जेएनएन। प्रदेश भर के जिलों में जाकर एटीएम में लोगों से ठगी और लूटपाट करने वाले गिरोह के सात अपराधियों को जार्जटाउन में पुलिस ने बोलेरो समेत दबोच लिया। उनके पास से अवैध हथियार, कारतूस, नकदी और कई एटीएम कार्ड भी बरामद हुए।

जार्जटाउन पुलिस ने पिस्टल, तमंचा और कारतूस के साथ नकदी बरामद की

जार्जटाउन थाने के उपनिरीक्षक अमित चौरसिया और संजीव कुमार गश्त पर थे। तभी एटीएम बूथ के बाहर खड़ी बोलेरो के पास मौजूद तीन युवकों की हरकत उन्हें संदिग्ध लगी। पूछताछ करने पर वे भागने लगे तो थाने से फोर्स बुलाकर तीनों को पकड़ लिया गया। बोलेरो में बैठे उनके चार साथियों को भी दबोच लिया गया। तलाशी में एक पिस्टल, दो तमंचा, कई कारतूस, आठ एटीएम कार्ड, आठ हजार रुपये नकद, कई मोबाइल फोन बरामद हुए। बोलेरो प्रतापगढ़ के रजिस्ट्रेशन नंबर की है।

पकड़े गए सातों युवक गिरोह के शातिर अपराधी हैं

एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि पकड़े गए सातों युवक एटीएम में लोगों को लूटने और झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के अपराधी हैैं। इनमें गोविंद सिंह भदौरिया कानपुर नगर के कल्याणपुर का रहने वाला है जबकि बाकी छह प्रतापगढ़ के निवासी हैैं। रंजीत यादव, विनीत यादव, सतीश पटेल उर्फ संजू जेठवारा, आशुतोष शर्मा उर्फ कल्लू लालगंज, आशीष कुमार और अंकित महेशगंज के भवानी का पूरा गांव के रहने वाले हैैं। 20 से 23 वर्ष के ये सभी युवक करीब साल भर से अपराध कर रहे थे।

एटीएम बूथ में घुसकर लोगों को मदद के बहाने लूटते थे

सीओ कर्नलगंज सत्येंद्र तिवारी ने बताया कि गोविंद सिंह कानपुर से प्रतापगढ़ आकर भाड़े की गाड़ी में इन सभी को बैठाता था। फिर प्रयागराज, कौशांबी, फतेहपुर, कानपुर से लेकर इटावा तक एटीएम बूथ में घुसकर लोगों को मदद के बहाने कार्ड बदलकर या एटीएम को हैैंग कर पैसे उड़ा लेते थे। कोई व्यक्ति एटीएम में ज्यादा रकम के साथ मिलता तो उसे तमंचा सटाकर लूट लेते थे। इनमें रंजीत यादव के कई रिश्तेदार ऐसे ही अपराध में गिरफ्तार हो चुके हैैं।

Edited By: Brijesh Srivastava