प्रयागराज, जेएनएन। बदायूं दुष्कर्म कांड को लेकर बनी फिल्म आर्टिकल-15 पर रोक लगाने की मांग में जनहित याचिका इलाहाबाद हाई कोर्ट में दाखिल की गई है। याचिका में सामूहिक दुष्कर्म के आरोपितों को ब्राह्मण बताकर सामाजिक विद्वेष फैलाने का आरोप लगाया गया है। अगली सुनवाई पांच जुलाई को ही होगी।

इलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति रामसूरत राम मौर्य व न्यायमूर्ति पीयूष अग्रवाल की खंडपीठ ने याचिका पांच जुलाई को पेश करने का आदेश दिया है। कानपुर नगर के सामाजिक कार्यकर्ता पंकज कुमार दीक्षित ने याचिका दाखिल कर 28 जून को होने वाले प्रसारण पर रोक लगाने की मांग की है।

याची का कहना है कि तथ्यों से छेड़छाड़ किया गया है और फिल्म में जाति विशेष को बदनाम करने का प्रयास किया गया है। याचिका में फिल्म के निदेशक अनुभव सिन्हा, एक्टर आयुष्मान खुराना, ईशा तलवार, सयानी गुप्ता, कुमुद मिश्र, मोहम्मद जीशान अयूब, अनुराग सोफिया तथा लेखक गौरव सोलंकी को पक्षकार बनाया गया है। अगली सुनवाई पांच जुलाई को ही होगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस