प्रयागराज, जेएनएन। एक तो तेज गर्मी उस पर लाइन में लगने से लोग पसीने से तर-बतर हो रहे हैं। यह हाल है ट्रेन टिकट के रिफंड रिजर्वेशन काउंटर का। काउंटर पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोग घंटे भर लाइन में लगे रहते हैं। परेशानी तब आती है जब काउंटर पर उनका नंबर आता है और उन्हें यह पता चलता है कि पैसा ही खत्म हो गया है। ऐसे में लोगों को मायूस होना पड़ रहा है।

25 मई से निरस्त हुई ट्रेनों के टिकट का रिफंड हो रहा

रेलवे 25 मई से निरस्त हुई ट्रेनों के टिकट का रिफंड दे रहा है। हालांकि रिजर्वेशन काउंटर पर रिफंड के लिए पर्याप्त पैसा न होने पर लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। पैसा लेने के लिए आधा-आधा घंटा खड़ा होना पड़ रहा है। इससे झल्ला कर कई लोग तो घर लौट जा रहे हैं। वहीं रिजर्वेशन काउंटर पर बैठे रेलकर्मी भी बहुत परेशान हैं, क्योंकि कई लोग निरस्त कराने को चार-चार, पांच-पांच टिकट लेकर आ रहे हैं। इससे भी लोगों को लाइन में खड़े होकर देर तक अपनी बारी आने का इंतजार करना पड़ रहा है।

रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों के रिजर्वेशन के लिए काउंटर खोले गए हैं

कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने पर रेलवे ने 22 मार्च से सभी सवारी गाडिय़ों को निरस्त कर दिया था। साथ ही सभी टिकट काउंटर भी बंद कर दिए थे। 22 मई को रेलवे ने स्पेशल ट्रेनों के रिजर्वेशन के लिए काउंटर खोले। 25 मई से रिफंड देना शुरू किया। छोटा बघाड़ा के रहने वाले मयंक अपना टिकट निरस्त कराने के लिए प्रयाग जंक्शन पर गए। फार्म भर कर टिकट निरस्त कराया मगर काउंटर पर पैसे न होने के कारण उन्हें आधे घंटे तक वहीं पर रुकना पड़ा। तब जाकर उन्हें पैसा मिल पाया।

काउंटर पर पैसा न होने इंतजार करना पड़ रहा

मम्फोर्डगंज के रहने वाले रजनीश सक्सेना प्रयागराज जंक्शन पर टिकट निरस्त कराने गए। रिफंड के रूप में उनको साढ़े चार सौ रुपये मिलने थे लेकिन काउंटर पर पैसा नहीं होने पर उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा। काउंटर पर बैठे रेलकर्मी ने उन्हें बताया कि पैसा मिलते ही दे दिया जाएगा। लगभग पौने घंटे के इंतजार के बाद वे बिना पैसे लिए लौट गए। नैनी के मोहब्बतगंज में रहने वाले अकरम प्रयागराज छिवकी स्टेशन पर रिफंड लेने के लिए गए। काउंटर पर पैसा न होने पर उन्हें कुछ देर तक इंतजार करना पड़ा।

बोले, प्रयागराज मंडल के जनसंपर्क अधिकारी

प्रयागराज मंडल के जनसंपर्क अधिकारी सुनील कुमार गुप्ता का कहना है कि प्रत्येक व्यक्ति कई-कई टिकट निरस्त करा रहे हैं। इसलिए थोड़ा समय लग रहा है। अभी टिकट निरस्त कराने वालों की संख्या ज्यादा है। इसलिए आरक्षण काउंटर पर नकदी कम होने की समस्या भी आ रही है। जैसे-जैसे रिजर्वेशन कराने वालों की संख्या बढ़ती जाएगी, वैसे-वैसे यह समस्या भी समाप्त हो जाएगी।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस