प्रयागराज, जेएनएन। उत्तर मध्य रेलवे की ओर से माल भाड़ा ग्राहकों की राहत के लिए आनलाइन भुगतान की सुविधा शुरू की गई है। झांसी मंडल के डबरा स्टेशन से एनसीआर के एक माल शेड द्वारा पहला आनलाइन माल भाड़ा भुगतान आरआर जनरेट किया गया है।

डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग या यूपीआइ के जरिए भुगतान

आनलाइन भुगतान मोड पर पहली रेलवे रसीद एनसीआर के झांसी डिवीजन में डबरा स्टेशन से कपूरथला तक गेहूं की रेक को लोड करने के लिए तैयार की गई। जबकि अभी तक माल भाड़ा ग्राहकों को ई-भुगतान की सुविधा दी जाती थी। लेकिन, अब आनलाइन भुगतान की सुविधा शुरू कर दी गई है। इससे डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग या यूपीआइ के जरिए भुगतान किया जा सकता है। माना जा रहा है कि जल्द प्रयागराज मंडल में भी इसकी शुरुआत की जाएगी।

जीरो कार्बन उत्सर्जक बनने के मिशन पर काम  

पर्यावरण के अनुकूल पहलुओं को बढ़ावा देने के लिए रेलवे ने कई अहम कदम उठाए हैं। वर्ष 2030 तक नेट जीरो कार्बन उत्सर्जक बनने के मिशन पर काम किया जा रहा है। इसके लिए रेलवे में 100 फीसद विद्युतीकरण का लक्ष्य है। इस दिशा में एनसीआर भी तेजी से काम कर रहा है। ऊंचाडीह-मेजा ताप विद्युत संयंत्र खंड समेत कई रेलखंडों हाल ही में विद्युतीकरण किया गया।

जोन में विद्युतीकरण कार्यों की प्रगति की समीक्षा के लिए एनसीआर के जीएम वीके त्रिपाठी ने गुरुवार को कई वर्चुअल बैठकें भी की है। सेंट्रल ऑर्गनाइजेशन फार रेलवे इलेक्ट्रिफिकेशन (कोर) के अधिकारियों के साथ भी बैठक कर जीएम ने स्पष्ट लक्ष्य दिए जाने के लिए कहा। साथ ही उन्होंने कहा कि विद्युतीकरण कार्यों को तेजी से कराएं। बैठक में प्रधान मुख्य विद्युत अभियंता सतीश कोठारी समेत तीनों मंडल के डीआरएम व मुख्यालय और मंडल के अधिकारी भी जुड़े।

Edited By: Ankur Tripathi