प्रयागराज : महिलाओं के साथ हो रही ¨हसा के विरोध उनको ही सामने आना होगा। इसको लेकर महिला समाख्या गांव-गांव जाकर लोगों को जागरूक करेगा। यह अभियान एक दिसंबर तक जिले के पांच ब्लाक क्षेत्रों में चलाया जाएगा।

जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत सोमवार को मंझनपुर तहसील के समदा गांव से हुई। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही किरन ने कहा कि महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय को लेकर उनको खुद अपनी आवाज बुलंद करना होगा। महिलाओं को इस बात के लिए जागरूक रहना होगा कि उनके साथ कोई अन्याय न होने पाए।

मीनाक्षी ने कहा कि ¨हसा करने वाले से बड़ा गुनाह सहने वाला होता है। इसलिए अब सबको आवाज उठाना होगा। संगठन पीड़ित महिलाओं की मदद के लिए सबके साथ है। उन्होंने कहा कि एक दिसंबर तक नेवादा, कौशांबी, मंझनपुर, सरसवां व मूरतगंज ब्लाक क्षेत्रों में संगठन की ओर से गांव-गांव जाकर जागरूक करने का कार्य किया जाएगा। इसके लिए हर गांव में कैंप लगाकर महिला अधिकारों के प्रति जागरूक किया जाएगा।

मिथिलेश ने कहा कि ¨हसा के प्रकार के संबंध में बताते हुए कहा कि बाल विवाह, बाल मजदूरी, भिक्षावृति आदि भी एक प्रकार की ¨हसा है। इसको विरोध के बाद ही दूर किया जा सकता है। इस दौरान सभी ने एकसुर में कहा महिलाओं पर हो रही ज्यादती तभी थमेगी, जब वह खुलकर इसके विरोध में आगे आएंगीं। कार्यक्रम के दौरान प्रतिभा, रंजीता, पुष्पा, सुशीला आदि थे। इन गांव में लगेगा जागरूकता कैंप :

अकबरपुर, शाखावरीपुर, पट्टी परवेजाबाद, भीखमपुर, अमवा, कादिरपुर, लोधौर, बनीखास, जाफरपुर, निखोदा, गौरातफारी, पश्चिमशरीरा, अधावां, रक्सौली, बरौला, मूरतगंज, काजीपुर, काजीपुर, जलीलपुर, लोहरा, आलमचंद, मोहिद्दीनपुर, जलीलपुर, जवई, नरेंद्रबारा, रक्सराई, मुस्तफा, ¨पडरा सहावनपुर, अंबावा पश्चिम।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran