प्रयागराज, जेएनएन। करीब 23 साल बाद पूर्व विधायक जवाहर हत्याकांड में फैसला आया। इसी तरह 14 साल पहले शहर पश्चिमी के पूर्व बसपा विधायक राजू पाल की हत्या हुई थी। इस हत्याकांड में अभी सुनवाई शुरू नहीं हुई है। मामले में सीबीआइ चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। मामले में पूर्व सांसद अतीक अहमद और उनके भाई पूर्व विधायक अशरफ समेत दस लोगों पर आरोप हैै।

अतीक के गढ़ में राजू पाल ने उनके भाई अशरफ को शिकस्त दे विधायकी हासिल की

वर्ष 2004 में अतीक अहमद के फूलपुर से सांसद चुने जाने के बाद रिक्त शहर पश्चिमी की सीट से धूमनगंज थाने के हिस्ट्रीशीटर राजू पाल ने ताल ठोकी थी। पांच बार विधायक रहे अतीक के गढ़ में राजू पाल ने उनके भाई अशरफ को शिकस्त देकर विधायकी हासिल की। कुछ ही महीने बाद 25 जनवरी 2005 को दोपहर में पोस्टमार्टम हाउस से नीवां स्थित घर जा रहे राजू पाल पर सुलेमसराय में सरेआम गोलियों की बौछार कर दी गई। क्वालिस और स्कार्पियो गाड़ी को घेरकर गोलियां बरसाई गई थीं। हमले में राजू पाल के साथ ही उनके करीबी संदीप यादव और देवी पाल भी मारे गए थे।

अतीक व अशरफ समेत नौ के खिलाफ दर्ज हुआ था हत्या का केस

राजू पाल की पत्नी पूजा पाल ने धूमनगंज थाने में तत्कालीन फूलपुर सांसद अतीक अहमद, उनके भाई अशरफ समेत नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा लिखाया था। पुलिस के बाद सीबीसीआइडी ने भी जांच की। पूरक आरोप पत्र दाखिल किए। अतीक और अशरफ समेत सभी आरोपित गिरफ्तार हुए। हालांकि एक आरोपित अब्दुल कवि अब तक नहीं पकड़ा जा सका। मौजूदा समय में अतीक देवरिया जेल कांड के बाद अहमदाबाद जेल में बंद हैं जबकि उनका भाई एक लाख रुपये का इनामी अशरफ फरार है।

सीबीआइ की चार्जशीट में 10 लोगों के नाम

राजू पाल की हत्या के बाद उनकी पत्नी पूजा पाल दो बार बसपा के टिकट पर विधायक चुनी गईं। उनकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआइ ने जांच की और दो महीने पहले अतीक और अशरफ समेत 10 आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट लखनऊ कोर्ट में दाखिल की। अभी सुनवाई शुरू नहीं हुई जिसका सबको इंतजार है।

पूजा पाल को भरोसा कि मिलेगी कठोर सजा

राजू पाल की पत्नी पूजा पाल कहती हैं कि 14 साल गुजर गए इंसाफ की आस में। न्याय पालिका पर पूरा भरोसा है। उम्मीद है कि सभी आरोपितों को कोर्ट से कठोर सजा मिलेगी। शादी के नौ दिन बाद ही मेरे पति को जान से मारने वाले लोगों को सजा मिलने पर ही चैन आएगा।