प्रयागराज, जागरण संवाददाता। अब ओवरब्रिज पर मंझे से गर्दन कटने जैसे हादसे नहीं होंगे। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए प्रयागराज और कौशांबी के 11 ओवरब्रिज की रेलिंग के ऊपर व्यू कटर (फाइबर की दीवार) बनाई जाएगी। इसके लिए करीब 20 करोड़ रुपये स्वीकृत हो गए हैं। अगले महीने से इस पर काम शुरू हो सकता है। अब तक ऐसी दीवार केवल हाईकोर्ट के ब्रिज में बनाई गई है।

कट चुकी है कई लोगों की गर्दन

रामबाग ब्रिज पर गुजरने के दौरान बाइक सवार कई लोगों की मंझा से गर्दन कट चुकी है। इसी तरह नैनी यमुना पुल और चौफटका समेत कई और ब्रिज पर घटनाएं हो चुकी है। ब्रिज के आसपास रहने वाले लोग पतंग उड़ाते हैं। उनकी पतंगों के चलते यह हादसे होते हैं। इन पतंगबाजों को रोकने के लिए कई बार कार्रवाई भी हुई। ऐसे हादसे चाइनीज मंझे की वजह से होते थे। इन हादसों को देखते हुए चाइनीज मंझे पर प्रतिबंध लगा। पुलिस मंझे की दुकानों पर पहले छापेमारी करके कार्रवाई भी कर चुकी है। लेकिन नियंत्रण न होने पर अब पुल पर ही ऐसा इंतजाम किया जा रहा है कि कोई हादसे का शिकार नहीं हो सके। अब ब्रिज के दोनों ओर रेलिंग के ऊपर छह-छह फिट ऊंचाई का व्यू कटर लगेगा। इसके लगने से मंझे से होने वाले हादसे रुकने के साथ ही ब्रिज के आसपास रहने वालों की घरों में पुल से ताक झांक भी नहीं हो सकेगी। साथ ही ब्रिज से कोई कूद नहीं सकेगा।

इन ब्रिज पर लगेगा व्यू कटर

- रामबाग ओवरब्रिज

- पानी टंकी ओवरब्रिज

- चौफटका ओवरब्रिज

- अलोपीबाग फ्लाईओवर

- एमएनएनआइटी ओवरब्रिज

- फूलपुर ओवरब्रिज

- करछना ओवरब्रिज

- नैनी ओवरब्रिज

- कौशांबी का सयारा ओवरब्रिज

- कौशांबी का सिराथू ओवरब्रिज

चीफ इंजीनियर का है कहना

- प्रयागराज शहर, देहात और कौशांबी सहित कुल 11 ओवरब्रिज व फ्लाइओवर पर व्यू कटर लगाने के लिए धन स्वीकृत हो गया है। अगले महीने से लगाने का काम शुरू हो जाएगा।

- आरके सिंह, चीफ इंजीनियर, सेतु निगम

Edited By: Ankur Tripathi