प्रयागराज : पिछले आठ सालों में बसवार प्लांट में जमा हो चुके 75 हजार मीट्रिक टन से अधिक कूड़े के ढेर को खत्म करने के लिए नगर निगम अब बायो माइनिंग पद्धति का सहारा लेगा। कूड़ा निस्तारण के लिए नगर निगम ने पुणे, नोएडा और इंदौर के मॉडल का अध्ययन किया है। यहां पर भी बायो माइनिंग से हजारों टन डंप कूड़े का निस्तारण करने की कवायद है। मई माह के अंत तक बसवार प्लांट में यह काम शुरू हो जाएगा। एक साल के बाद प्लांट में कूड़े का ढेर नहीं रह जाएगा।

कुंभ के दौरान मेला क्षेत्र से प्रतिदिन 200 टन कूड़ा प्लांट में जाता था

कुंभ के दौरान मेला क्षेत्र से प्रतिदिन 200 मीट्रिक टन कूड़ा बसवार प्लांट जा रहा था। शहर से 400 मीट्रिक टन कूड़ा निकल रहा था। बसवार प्लांट में जो चार मशीनें लगी हैं, उनसे अधिकतम 600 मीट्रिक टन कूड़े का निस्तारण हो सकता है। मेले के कूड़े में बड़ी मात्रा में पुआल जा रहा था, इसलिए कूड़ा निस्तारण करने में परेशानी आ रही थी। धीरे-धीरे कुंभ मेला के कचरे का ढेर लगना शुरू हो गया।

बसवार प्लांट में लग गया कूड़े का ढेर, निस्तारण को मांगा बजट 

पिछले कई सालों से बसवार प्लांट में सही से कूड़ा निस्तारित नहीं हो रहा था, जिसके चलते पहले से ही वहां ढेर लग रहा था। वर्तमान समय में प्लांट में 75 हजार टन से ज्यादा कूड़ा इकट्ठा हो चुका है, जो नगर निगम के लिए परेशानी का सबब बन गया है। नगर निगम ने कूड़ा निस्तारित करवाने के लिए शासन से बजट मांगा है।

बोले नगर आयुक्त

नगर आयुक्त डॉ. उज्ज्वल कुमार का कहना है कि बसवार प्लांट में डंप हो चुके कूड़े को बायो माइनिंग से निस्तारित कराया जाएगा। मई के अंत तक इसकी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। इसके लिए शासन से बजट मांगा गया है।

पहले होगी कूड़े की छटाई, फिर शुरू होगी प्रक्रिया

शासन से बजट मिलने पर नगर निगम बायो माइनिंग पद्धति से कूड़ा निस्तारण करने वाली एजेंसी को इसका जिम्मा सौंपेगी। कार्यदायी एजेंसी प्लांट में मशीनें लगाएगी। उसके माध्यम से सबसे पहले कूड़े की छटाई की जाएगी। इससे कूड़े से 25 से 30 फीसद नमी खत्म हो जाएगी। फिर वह कूड़ा अलग किया जाएगा, जिस कूड़े का निस्तारण हो सकता है उसे अलग किया जाएगा, जिसका नहीं हो सकता है, उसे अलग रखा जाएगा। कूड़ा निस्तारण होने वाले कूड़े पर केमिकल डालकर हरियाली तैयारी की जाएगी। जिस कूड़े का निस्तारण नहीं हो सकता है, उसकी फार्म बदलकर उसे ज्वलनशील बनाकर फैक्ट्रियों को बेचा जाएगा। बायो माइनिंग से प्लांट में बिल्कुल कचरा खत्म हो जाएगा।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप