प्रयागराज, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में गांव-गांव महासंग्राम चल रहा है। हर गली, मोड़ और चौराहे पर चुनाव की ही चर्चा है। इस चर्चा के केंद्र में है प्रधानी की सीट। बाकी सीटों के लिए इतना क्रेज नहीं है। ग्राम पंचायत सीट के लिए तो बिल्कुल क्रेज नहीं है। हालात यह है कि इसकी करीब आठ हजार सीटों पर तो कोई नामांकन ही नहीं हुआ है। इन पदों पर बाद में आयोग को फिर से चुनाव कराना होगा।

प्रधान, बीडीसी और जिला पंचायत सदस्य पर कई गुना नामांकन

इस बार एक साथ जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी), ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत सदस्य का चुनाव हो रहा है। तीन और चार अप्रैल को जिला पंचायत कार्यालय और 23 विकास खंड कार्यालयों इन पदों नामांकन हुआ। जिला पंचायत सदस्य के 84 पदों के सापेक्ष 1620 प्रत्याशियों ने नामांकन किया। बीडीसी की 2086 सीटों के सापेक्ष 10499 प्रत्याशियों ने पर्चा भरा है। ऐसे ही प्रधान के 1540 पदों के सापेक्ष 15158 प्रत्याशियों ने नामांकन कराया है। मतलब सबसे अधिक प्रत्याशी प्रधान पद के लिए है। निर्धारित सीटों से करीब दस गुना अधिक लोगों ने नामांकन किया है। वहीं ग्राम पंचायत सदस्य की 19820 सीटों के सापेक्ष 12529 लोगों ने ही पर्चा भरा है। निर्धारित सीट से 7291 कम लोगों ने पर्चा भरा है। इतना कम तब होगा, जब हर सीट पर एक-एक ही प्रत्याशी होगा। लेकिन यहां तो अधिकतर सीटों पर दो से अधिक प्रत्याशी है। ऐसे में आठ हजार से अधिक सीटों पर तो एक भी प्रत्याशी नहीं है। ऐसा पहली बार नहीं है। पूर्व में सीटें खाली रह जाती थीं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021