प्रयागराज, जेएनएन। पिछले शैक्षिक सत्र के लिए जिले के गैर मान्यता प्राप्त कई हाईस्कूल और इंटरमीडिएट स्कूलों की मान्यता के लिए ऑनलाइन आवेदन किए गए थे। उन्हें अब तक मान्यता नहीं मिल सकी है। वहीं नए सत्र के लिए आवेदन प्रक्रिया ऐसे स्‍कूलों ने शुरू कर दिया है। इससे शासन और अफसरों की कार्यशैली को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।
 पिछले सत्र में जिले से कुल 45 विद्यालयों ने मान्यता के लिए आवेदन किए थे। इसमें से छह बालिका और 39 बालक विद्यालय शामिल हैं। इसी प्रकार वर्गो और अलग-अलग विषयों की मान्यता के लिए भी विद्यालयों ने आवेदन किए हैं, लेकिन इनकी मान्यता अब तक नहीं मिल सकी है, जबकि नया सत्र चालू हो गया है। मान्यता न मिलने से विद्यालयों में दाखिले कराने से नए छात्र-छात्राएं कतरा रहे है। साथ ही जो पढ़ रहे हैं उन्हें इच्छा के मुताबिक वर्ग और विषय भी नहीं मिल सके।
 वहीं, अब नए सत्र के लिए गैर मान्यता प्राप्त हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट स्कूलों की मान्यता के लिए ऑनलाइन आवेदन लिए जा रहे हैं। 15 जुलाई तक बिना विलंब शुल्क और 30 तक विलंब शुल्क के साथ जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है। आवेदनों की जांच 15 नवंबर तक पूरी करके यूपी बोर्ड को भेजा जाना है। इस बार आवेदन शुल्क भी 10 हजार रुपये से बढ़ाकर 30 हजार रुपये कर दिया गया है।
 मंडल अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (चेत नारायण गुट) मनोज कुमार सिंह ने बताया कि हाईस्कूल का परिणाम आ चुका है लेकिन पिछले शैक्षिक सत्र में जिन विद्यालयों, विषयों अथवा वर्ग की मान्यता के लिए आवेदन किया गया था। वह प्रक्रिया अब तक पूरी नहीं हुई। शासन को चाहिए कि जल्द से जल्द मान्यता दी जाए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप