प्रयागराज, जेएनएन । प्रयागराज जंक्शन से नई दिल्ली के बीच चलने वाली प्रयागराज एक्सप्रेस को सुविधा, सेवा और परिचालन के स्तर पर उम्दा टे्रन का दर्जा हासिल है। प्रयागराज के लोग इसे अपनी राजधानी एक्सप्रेस भी कहना नहीं भूलते हैं। यहां से दिल्ली जाने के लिए प्रयागराज एक्सप्रेस लोगों की पहली पसंद में शामिल होती है। टाइमिंग, मेंटीनेंस और साफ-सफाई के साथ ही इस टे्रन ने कई मामलों में पूरे भारतीय रेल में कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं जिसके चलते यह ट्रेन उत्तर मध्य रेलवे की धरोहर बन गई है।

 

1984 से शुरू हुआ था संचालन :

भारतीय रेलवे की महत्वपू्रर्ण ट्रेनों में शुमार प्रयागराज एक्सप्रेस का संचालन 16 जुलाई वर्ष 1984 से शुरू हुआ था। तब से यह ट्रेन प्रयागराज से नई दिल्ली के बीच सफर करने वाले मुसाफिरों को गुणवत्तापूर्ण यात्रा का अनुभव प्रदान कर रही है। समय का पालन करने, साफ-सफाई व अच्छी सेवा के चलते यह ट्रेन यात्रियों की पहली पसंद है। इसमें स्थान न मिलने पर ही लोग दूसरी ट्रेनों से दिल्ली का सफर करना गंवारा करते हैं।

हासिल किए कई मील के पत्थर :

पिछले चार दशकों में इस ट्रेन ने कई मील के पत्थर हासिल किए हैं जिसे भारतीय रेलवे की अग्रणी मानी जाने वाली राजधानी, शताब्दी जैसी ट्रेनें भी हासिल नहीं कर सकी हैं। संचालन की शुरूआत 17 वैक्यूम ब्रेक वाले लाल रंग के डिब्बों के साथ हुई थी। 2003 में इसको 24 कोच की करने के साथ  नीले रंग के डिब्बों के संग एयरब्रेक सुविधायुक्त कर दिया गया।

24 एलएचबी कोच वाली पहली ट्रेन :

16 दिसंबर 2016 को इस ट्रेन को अत्याधुनिक एलएचबी कोच से युक्त किया गया। शुरूआत 21 कोचों से हुई जिसे 18 दिसंबर तक बढ़ाकर 22 कोच कर दिया गया। 15 मई 2017 से 23 कोच और दो सितंबर 2019 से 24 कोचों के साथ संचालित होने लगी।

अब 130 किमी.की गति से चलेगी :

अभी विशेष गाड़ी के रूप में संचालित हो रही 02417-18 प्रयागराज एक्सप्रेस भारतीय रेल की 24 एलएचबी कोचों वाली पहली ट्रेन होगी जो 25 नवंबर 2020 से 130 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से संचालित होगी। उत्तर मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी डाक्टर अमित मालवीय का कहना है कि यह ट्रेन हमारी धरोहर है। हम हर कदम पर यात्री सेवाओं के विस्तार में तत्पर हैं।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप