प्रयागराज, जागरण संवाददाता। यह ऐसी घटना है जिसने प्रयागराज में हर किसी को स्तब्ध कर दिया है। दिनदहाड़े ऐसा वाकया कि सुनकर लोग सन्न रह गए। ऐसी घटनाएं अक्सर सामने आती हैं कि सड़क किनारे या फिर खेत में किसी व्यक्ति की लाश मिली, और पुलिस अनुमान जताती है कि रात में किसी वक्त किसी गाड़ी से लाकर वहां शव को फेंका गया होगा। मगर ऐसा शायद ही कभी हुआ हो कि सबके सामने एक रक्तरंजित शव फेंककर कोई भागा हो। मगर प्रयागराज के यमुनापार इलाके में बुधवार को ऐसा ही हुआ जब कौंधियारा में एक व्यक्ति साइिकल पर बोरे में महिला का शव रखकर ले जा रहा था। लोगों ने खून रिसता देख रोका तो वह साइकिल सहित बोरे में लाश छोड़कर जंगल में भाग गया। पुलिस ने बोरे को खोला तो उसमें युवती का शव था जिसके शरीर पर कई जख्म थे। पता चला कि वह रामगढ़वा टिकरी गांव निवासी 32 साल की रीता थी। उसके चार बच्चे थे। महिला के देवर विनोद ने परचून दुकानदार अच्छेलाल गुप्ता के खिलाफ मुकदमा लिखाया है। वह फरार है।

जंगल में भाग गया साइकिल छोड़कर, पुलिस कर रही तहकीकात

लोगों ने देखा कि कौंधियारा में आंबा गांव की नहर पुलिया से एक व्यक्ति साइिकल पर जा रहा था। साइिकल पर पीछे बोरे में कुछ भारी भरकम सामान था। वहां खड़े एक दिव्यांग शख्स ने देखा कि बोरे से खून टपक रहा है। उसके टोकने पर बाकी लोगों का ध्यान उस तरफ गया। लोगों ने शोर मचाया तो वह व्यक्ति साइकिल को बोरे समेत छोड़कर भागने लगा। गांव वालों ने उसका पीछा किया तो वह टोंस नदी की तरफ जाकर जंगल के भीतर भाग गया। कुछ देर तक लोगों ने खोजबीन की लेकिन वह व्यक्ति मिला नहीं। इस बीच साइकिल औऱ बोरे के पास भीड़ जमा हो गई थी। आंबा के ग्राम प्रधान कृष्णा नंद ओझा ने फोन पर जानकारी दी तो कौंधियारा थाने की पुलिस वहां आ गई। कौंधियारा थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह ने बोरे को खुलवाया तो उसके अंदर एक युवती की लाश दिखी। उसके शरीर पर सलवार-कमीज थी। वहां भीड़ थी लेकिन कोई भी मारी गई महिला की पहचान नहीं कर सका। पुलिस का अनुमान है कि एक-दो घंटे पहले ही युवती का धारदार हथियार से कत्ल किया गया था। रात में पता चला कि वह रामगढ़वा टिकरी गांव निवासी रीता देवी थी। उसकी अपने ही गांव के परचून दुकानदार अच्छे लाल गुप्ता से फोन पर बातचीत होती थी। अच्छे लाल की दुकान पर रीता का देवर विनोद काम करता था, जिसके बहाने अच्छेलाल उसके घर आया जाया करता था। बताया जाता है कि रीता और अच्छेलाल के बीच मंगलवार रात दो बजे तक बातचीत हुई। बुधवार सुबह जब पति सहसों चला गया तो रीता दवा लेने के बहाने अच्छे लाल से मिलने के लिए गांव से बाहर गई। इसी बीच धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या कर दी गई। इतना ही नहीं, आरोपित महिला का शव बोरे में भरकर साइकिल पर लादकर ठिकाने लगाने जा रहा था, तभी रास्ते में खून टपकता देख एक दिव्यांग ने उसकी साइकिल में लाठी लगाकर रोक लिया। एसपी यमुनापार सौरभ दीक्षित ने बताय कि महिला अपने घर में दवा लेने की बात कहकर निकली थी। उसके चार बच्चे हैं। छानबीन के आधार पर प्रथम द़ृष्टया प्रेम प्रसंग का मामला लग रहा है। जल्द ही अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Edited By: Ankur Tripathi