प्रयागराज, जेएनएन। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का एक और मुकदमा शासन की संस्तुति पर एमपी एमएलए कोर्ट से वापस लिया गया। विशेष न्यायाशीध एमपी एमएलए पवन कुमार तिवारी ने अभियोजन की ओर से पेश की गई अर्जी को स्वीकार करते हुए मुकदमा समाप्त करने का आदेश दिया।

प्रयागराज में कर्नलगंज थाने का है मामला
मामला प्रयागराज में कर्नलगंज थाने का है। तत्कालीन थाना प्रभारी राकेश सिंह ने दो जनवरी 2014 को मुकदमा दर्ज कराया था। विश्वविद्यालय छात्रसंघ भवन पर जुटे 300 से ज्यादा छात्र और छात्र नेता मानव श्रृंखला बनाकर लोकसेवा आयोग तक जाने की तैयारी में थे। तभी तत्कालीन विधायक सिराथू केशव प्रसाद मौर्या ने मंच पर चढ़कर भड़काऊ भाषण दिया कि लोकसेवा आयोग के अध्यक्ष को नहीं हटाया जाएगा तो पूरे शहर में आग लगा दी जाएगी। इस भाषण के बाद भीड़ ने ईंट-पत्थर चलाए। सीओ की गाड़ी का भी कांच टूट गया था। इस घटना में पुलिस की ओर से लिखा गया मुकदमा शासन ने समाप्त करने की संस्तुति की थी।

दो विधायकों की जमानत अर्जी मंजूर
विशेष कोर्ट एमपी एमएलए के न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी ने भदोही जिले के औराई से विधायक दीनानाथ भाष्कर और फिरोजाबाद जिले की सिरसागंज सीट से विधायक हरिओम यादव की जमानत अर्जी सुनवाई के बाद मंजूर कर ली। कोर्ट में पेश हुए दोनों जनप्रतिनिधियों को रिहा करने का आदेश जारी किया। विधायक दीनानाथ भाष्कर के खिलाफ भदोही के औराई थाने में 12 मई 2019 को लोकसभा चुनाव के दौरान पीठासीन अधिकारी राधेश्याम ने मारपीट का केस दर्ज कराया था। उधर, सिरसागंज के विधायक हरिओम यादव के खिलाफ शिकोहाबाद थाने में मुकेश यादव ने 21 जुलाई 2007 में सड़क के विवाद में मुकदमा दर्ज कराया था।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021