प्रयागराज,जेएनएन। लूकरगंज के दिवंगत कोरोना संक्रमित इंजीनियर की 85 वर्षीया वृद्ध मां व भाई ने आखिरकार कोरोना वायरस के संक्रमण से जंंग जीत ही ली। यह दोनों पिछले 12 दिनों से लेवल थ्री कोविड अस्पताल एसआरएन में भर्ती थीं। दोनों लोगों को बुधवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर उनके घर भेज दिया गया है। मां और भाई अब कोरोना से पूरी तरह से मुक्त हो चुके हैं। अब यह 21 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहेंगे।

पत्‍नी, सास और दूसरे भाई की पत्‍नी की रिपोर्ट अभी तक पॉजिटिव

दिवंगत इंजीनियर के परिवार में उनकी पत्नी, मां, सास, भाई और दूसरे भाई की पत्नी कोरोना से संक्रमित थे। सभी को एसआरएन अस्पताल में भर्ती करके इलाज किया जा रहा था।

तीन बार सैंपलिंग की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बता दें कि लगातार इन लोगों की तीन बार सैंपलिंग कराई गई लेकिन तीनों बार रिपोर्ट पॉजिटिव ही आई। मंगलवार को सैंपल फिर जांच के लिए भेजा गया जिसमें रिपोर्ट निगेटिव आई। दो बार निगेटिव आने के बाद दोनों को कोरोना मुक्त घोषित कर दिया गया। वृद्ध मां के सामने ही इनके बेटे की कोरोना से मौत हो गई थी लेकिन उन्होंने साहस का परिचय दिया और कोरोना की जंग जीत ली। मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एसपी सिंह ने बताया कि हम खुद इन मरीजों की मानिटरिंग कर रहे थे। हमारी पूरी टीम कोरोना मरीजों के इलाज में लगी है। इंजीनियर की पत्नी, सास और दूसरे भाई की पत्नी की रिपोर्ट अभी तक पॉजिटिव ही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस