इलाहाबाद (जेएनएन)। उप्र लोकसेवा आयोग यानी यूपीपीएससी की सभी स्क्रीनिंग परीक्षाओं में भी अब माइनस मार्किंग लागू होगी। अभी तक यह व्यवस्था कुछ बड़ी परीक्षाओं के लिए ही थी। पीसीएस जे 2018 की प्रारंभिक परीक्षा में भी माइनस मार्किंग रहेगी। परीक्षाओं में अनुमान से अधिक आवेदन होने के चलते तुक्केबाजी पर लगाम और योग्य उम्मीदवारों का ही भर्तियों में चयन होने के नजरिए से यूपीपीएससी ने यह कदम उठाया है। पिछले दिनों यूपीपीएससी की हुई बैठक में इस पर निर्णय लिया गया।

विभिन्न परीक्षाओं के चार वैकल्पिक उत्तरों वाले प्रश्नपत्रों में माइनस मार्किंग की व्यवस्था दरअसल तुक्केबाजी में परीक्षा उत्तीर्ण कर चयनित होने वाले अभ्यर्थियों पर लगाम के लिए है। अभी तक पीसीएस, पीसीएस जे, आरओ-एआरओ व लोअर सबॉर्डिनेट की होने वाली प्रारंभिक परीक्षा में ही माइनस मार्किंग होती रही है। 29 जुलाई को हुई एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती 2018 की परीक्षा में भी अभ्यर्थियों की तादाद सात लाख से अधिक हो जाने पर माइनस मार्किंग लागू की गई थी।

इसमें हर एक गलत उत्तर पर 0.33 यानि एक सही उत्तर पर एक तिहाई अंक काटने की व्यवस्था है। यूपीपीएससी ने पिछले माह सीधी भर्ती से होने वाले चयन की व्यवस्था में बदलाव करते हुए प्रत्येक भर्ती पर स्क्रीनिंग परीक्षा कराने का निर्णय लिया था। इससे यूपीपीएससी की आगामी सभी स्क्रीनिंग परीक्षाओं में माइनस मार्किंग लागू कर दी गई है। सचिव जगदीश ने बताया है कि पीसीएस जे परीक्षा 2018 की प्रारंभिक परीक्षा में माइनस मार्किंग रहेगी। यही व्यवस्था आगे भी रखे जाने का निर्णय लिया गया है।  

Posted By: Ashish Mishra