प्रयागराज : 50 फीसद से ज्यादा लाइन हानि वाले फीडरों पर चलाए जा रहे 'क्लीन अपÓ अभियान और एक मुश्त समाधान योजना (ओटीएस) की समीक्षा  पॉवर कारपोरेशन के चेयरमैन आलोक कुमार ने की। अभियान के प्रति लापरवाही बरतने के आरोप में कल्याणी देवी और बमरौली खंड के अधिशासी अभियंता (एक्सईएन) एलके चक्रवेदी व जीसी यादव और बिजली घर के उपखंड अधिकारी (एसडीओ) चंद्रशेखर आजाद को चेतावनी दी गई। इन अधिकारियों को कार्य में प्रगति लाने के लिए 24 फरवरी तक का समय दिया गया।

चेयरमैन ने कहा, शहरी क्षेत्र में लाइन हानि बहुत कम होना चाहिए

सर्किट हाउस में समीक्षा के बाद चेयरमैन ने दैनिक जागरण से बातचीत में कहा कि शहरी क्षेत्र में लाइन हानि बहुत कम होना चाहिए, लेकिन सूबे में 948 फीडर ऐसे हैं, जिन पर लाइन हानि 50 फीसद से ज्यादा है। इसमें से 105 फीसद सिर्फ प्रयागराज में है। कहा कि सर्किल एक में सर्किल दो की तुलना में काम बेहतर है। हालांकि, सर्किल एक के कुछ अधिकारियों का कार्य शिथिल मिलने पर चेतावनी दी गई है।

अधीक्षण अभियंता को काम सुधारने को कहा

सर्किल दो का काम ढीला होने पर अधीक्षण अभियंता आरके सिंह को काम सुधारने के लिए कहा गया है। 24 फरवरी के बाद नोडल अधिकारी (निदेशक तकनीक, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड) अंशुल अग्रवाल फिर समीक्षा करेंगे। काम में सुधार न होने पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

पूर्वांचल के 36 डिवीजनों में ओटीएस की प्रगति ठीक नहीं

चेयरमैन ने बताया कि सूबे में 60 डिवीजनों में ओटीएस की प्रगति ठीक नहीं है। इसमें प्रयागराज समेत पूर्वांचल के 36 डिवीजन शामिल हैं। प्रयागराज का थ्रू रेट भी प्रदेश में सबसे कम चार रुपये है।

निकम्मे अफसर होंगे निलंबित

चेयरमैन के मुताबिक अफसरों की तीन श्रेणी तय करने के निर्देश मुख्य अभियंता महेश चंद्र शर्मा को दिए हैं। अच्छा काम करने, सुधार की गुंजाइश वाले और निकम्मे अफसर। कहा कि निकम्मे अफसरों को आरोप पत्र भी देंगे और निलंबित भी करेंगे। खराब मीटरों को बदलने, बड़े बकाएदारों के कनेक्शन काटने, नए उपभोक्ताओं को समय से बिल देने और गर्मी शुरू होने के मद्देनजर ट्रांसफार्मरों की क्षमता वृद्धि और उसे ठीक कराने के निर्देश भी दिए हैं।

सौभाग्य और पंडित दीनदयाल उपाध्याय विद्युतीकरण योजना का काम अच्छा

सौभाग्य और पंडित दीनदयाल उपाध्याय विद्युतीकरण योजनाओं के काम के सवाल पर चेयरमैन ने कहा कि इसके तहत काम अच्छा हुआ है। दावा किया कि सौभाग्य का लक्ष्य पूरा किया जा चुका है। जहां कनेक्शन छूटे हैं। कनेक्शन भी दिए जा रहे हैं। दीनदयाल उपाध्याय योजना में दो तरह के काम (नए सब स्टेशनों के निर्माण, क्षमता वृद्धि, ट्रांसफार्मर लगाने और घरों में कनेक्शन देना) थे। समीक्षा बैठक में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक गोविंद राजू भी थे।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप