प्रयागराज, जागरण संवाददाता। मकर संक्रांति 2020 का स्‍नान प्रयागराज में गंगा, यमुना के संगम पर शुक्रवार की भोर से शुरू हुआ। शाम तक छह लाख से ज्यादा लोगों ने स्नान कर लिया हालांकि पिछले वर्षों की तुलना में यह आंकड़ा आधे से भी बहुत कम है। दोपहर एक बजे तक तीन लाख लोगों ने डुबकी लगाई थी। शनिवार को भी मकर संक्रांति है इसलिए माघ मेला क्षेत्र में स्‍नानार्थियों के आने का क्रम बना हुआ है। प्रशासन और पुलिस के जवान सक्रिय हैं। कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने के लिए कवायद जारी है। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की भी टीमें इसमें सक्रिय हैं।

 

प्रयागराज माघ मेले का काफी है महत्‍व

प्रयागराज में संगम तट पर माघ मेला प्रति वर्ष आयोजित होता है। वहीं प्रत्‍येक 12 वर्ष में महाकुंभ और 6 वर्ष में अर्धकुंभ मेला लगता है। कुंभ व माघ मेला में संगम स्‍नान का काफी महत्‍व है। देश-विदेश से लोग संगम स्‍नान के लिए आते हैं। माघ मेला का प्रथम स्नान पर्व मकर संक्रांति के साथ आज से शुरू हो चुका है। संगम के पवित्र जल में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु प्रयागराज पहुंच चुके हैं।

आज रात से सूर्य धनु से मकर राशि में करेंगे प्रवेश

14 जनवरी की रात 8.49 बजे सूर्य धनु से मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसके बाद सूर्य उत्तरायण होंगे। मकर संक्रांति स्नान पर्व का मुहूर्त शनिवार को है। इससे रात में भी स्नान होगा। मकर संक्रांति स्नान के बाद गृहस्थों का कल्पवास शुरू हो जाएगा। संगम की रेती पर कल्‍पवास एक माह का होता है।

माघ मेला क्षेत्र में जगह-जगह चेकिंग, संदिग्धों पर रखी जा रही नजर

माघ मेले के प्रथम स्नान पर्व मकर सक्रांति पर शुक्रवार को सुरक्षा व्यवस्था तगड़ी की गई है। मेला क्षेत्र के सभी प्रमुख 16 प्रवेश द्वारों पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। संदिग्धों पर भी नजर रखी जा रही है। आईजी डॉ राकेश सिंह, एसएसपी अजय कुमार समेत अन्य अधिकारी मेला क्षेत्र का भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्था को खंगाल रहे हैं। मेला क्षेत्र में बम निरोधक दस्ता, डाग स्क्वायड द्वारा भी जांच पड़ताल की जा रही है। एलआइयू की टीम भी लगी है।

सीसीटीवी से संदिग्‍धाें पर रखी जा रही नजर

वाच टावर और सीसीटीवी से संदिग्ध पर नजर रखी जा रही है। स्नान घाटों पर महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है। लाउडस्पीकर के माध्यम से श्रद्धालुओं को कोई भी लावारिस वस्तु को न छूने की हिदायत दी जा रही है। साथ ही करोना से बचाओ के उपाय के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी जा रही है। पैरामिलिट्री और पीएसी के जवानों को भी जगह-जगह मुस्तैद हैं। वहीं, बम निरोधक दस्ते और डाग स्क्वायड की टीम भी निरीक्षण कर रही है। खुफिया विभाग के अधिकारी भी भ्रमण कर सुरक्षा को खंगाल रहे हैं। संदिग्धों पर नजर रखने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा रेलवे और बस स्टेशनों पर भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम हैं। शहर के होटलों और धर्मशालाओं में ठहरने वालों का विवरण एकत्र करने के साथ ही कर्मचारियों से कहा गया कि कोई भी संदिग्ध नजर आए तो तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दें।

कोरोना को देखते हुए अतिरिक्‍त सतर्कता

कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए माघ मेला में स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की ओर से अतिरिक्‍त सतर्कता बरती जा रही है। मेला के कई स्‍थानों पर जांच शिविर भी लगे हैं जहां आने वाले श्रद्धालुओं की थर्मल स्‍कैनिंग की जा रही है। वहीं मेला प्रवेश स्‍थलों पर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम मुस्‍तैद है।

माघ मेला में इस बार नहीं खुलेगी सरकारी राशन की दुकान

माघ मेला में इस बार आपूर्ति विभाग की ओर से सरकारी राशन की दुकान नहीं खोली जाएगी। माघ मेला के दौरान कल्पवासियों और साधु-संतों को बाजार से सस्ते दामों पर आटा और चावल उपलब्ध कराने के लिए दुकानें खोली जाती थी। सरकारी राशन की दुकान न खुलने से इस बार अन्न क्षेत्र चलाने के लिए संत-महात्माओं व अन्य संस्थाओं को बाजार से गेहूं, चावल, आटा खरीदना होगा। पिछली बार दुकानों को लिए जमीन आवंटित हुई थी लेकिन इस बार जमीन का आवंटन ही नही कराया गया है। जिला आपूर्ति आनंद कुमार ङ्क्षसह ने बताया कि राशन की दुकान खोलने का कोई आदेश नहीं आया है जिस कारण से माघ मेला क्षेत्र में सरकारी राशन की दुकान नहीं खोली जाएगी।

भारी वाहनों का प्रवेश बंद

मकर संक्राति स्‍नान पर्व पर श्रद्धालुओं की भीड़ के मद्देनजर गुरुवार की रात एक बजे से शहर में भारी वाहनों का प्रवेश रोक दिया गया था। यह नो इंट्री 15 जनवरी तक लागू रहेगी। शहर के बाहर से भी ट्रक और भारी वाहनों का रूट डायवर्जन है। स्नानार्थियों के वाहनों पर रूट डायवर्जन की पाबंदी लागू नहीं होगी। हालांकि पास वाले वाहनों पर भी नो इंट्री लागू रहेगी। ऐसे में जरूरी है कि अगले दो दिन लोग इन यातायात प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए ही घर से यात्रा पर निकलें ताकि फिर कोई दिक्कत नहीं झेलनी पड़े।

Edited By: Brijesh Srivastava