प्रयागराज, जागरण संवाददाता। माफिया अतीक अहमद के गुर्गों ने प्रयागराज के मंदरी गांव में सात बीघे बंजर जमीन कब्जा करके उस पर प्लाटिंग शुरू कर दी थी। इस दौरान इसकी कीमत करीब सात करोड़ रुपये बताई जा रही है। प्रशासन को जानकारी हुई तो एसडीएम सदर ने उसे कब्जा मुक्त करवा दिया है। अब यह जमीन एटीएस और इंजीनियरिंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के लिए दी जाएगी। झलवा से एयरपोर्ट होते हुए कौशांबी तक फोरलेन रोड बननी है। इसे देखते हुए उस क्षेत्र में धड़ल्ले से प्लाटिंग हो रही है।

जीशान व एहतेशाम ने बंजर भूमि पर किया था कब्‍जा

इसी रोड पर फनगांव के पीछे मंदरी ग्राम सभा में करीब सात बीघा बंजर जमीन है। इसी के निकट प्लाटिंग कर रहे माफिया अतीक के गुर्गे चकिया निवासी जीशान उर्फ जानू पुत्र जई और बेगम बाजार निवासी एहतेशाम पुत्र आसिफ ने बंजर जमीन पर कब्जा कर लिया था। इन लोगों ने बंजर का कुछ हिस्सा बेच भी दिया। कुछ लोगों ने वहां पर बाउंड्री भी करवा ली है।

अभी भी है जमीन पर कब्‍जा, कराया जाएगा खाली

एसडीएम सदर विवेक चतुर्वेदी ने पैमाइश करवाई। जांच में पता चला कि बंजर जमीन की अराजी संख्या 286, 295 और 298 में अतीक के गुर्गों ने कब्जा कर लिया है। यह जमीन करीब सात करोड़ रुपये की है। उन्होंने तत्काल अवैध कब्जा गिरवाया और वहां पर सरकारी जमीन का बोर्ड लगवा दिया है। उन्होंने बताया कि यहां पर कब्जा करने वालों के खिलाफ भू माफिया का मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। वहां पर अभी कुछ और जमीन पर अवैध कब्जा है। उसे भी खाली कराया जाएगा।

एटीएस को देंगे जमीन

आतंकी निरोधी दस्ता (एटीएस) को प्रयागराज में कार्यालय खोलने के लिए जमीन चाहिए थी। एटीएस को जमीन देने का मामला प्रशासन के पास काफी दिनों से लंबित था। कब्जा मुक्त कराई गई जमीन में से दो बीघा एटीएस को दी जाएगी। वहीं लोक निर्माण विभाग को इंजीनियरिंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट खोलने के लिए ढाई बीघा जमीन दी जाएगी। थोड़े दिनों ने इन दोनों विभागों के नाम जमीन की रजिस्ट्री करवा दी जाएगी।

Edited By: Brijesh Srivastava