इलाहाबाद : जनपद के माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षक-कर्मचारियों के मासिक वेतन के भुगतान अब पूर्ण रूप से बायोमिट्रिक विवरण के आधार पर होगा। राजकीय-अशासकीय सहायता प्राप्त, वित्तीय सहायता प्राप्त विद्यालयों में जुलाई माह के वेतन के लिए माहभर की दोनों समय (आने-जाने) की बायोमिट्रिक पन्चिंग का विवरण प्रस्तुत करना होगा। गुरुवार को सेंट अंथोनी इंटर कालेज में आयोजित जनपद के प्रधानाचार्यो में इस संबंध में निर्देश दिए जाएंगे।

ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद से जुड़े जनपद के विद्यालयों में संचालित विभिन्न योजनाओं के प्रारूप को अंतिम रूप दिया जाएगा। इसमें सर्वाधिक महत्वपूर्ण बिंदुओं में कालेज में शिक्षक कर्मचारियों की डिजिटल हाजरी के महत्वपूर्ण पहलु पर चर्चा होगी। विद्यालयों में मनमाने समय पर आने जाने पर अंकुश लगाने के लिए ऐसा प्रावधान किया ज रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि बैठक में जनपद के विद्यालयों की कल्याणकारी योजनाओं पर चर्चा होगी। उन्होंने बताया कि तीन दिन लेट आने पर एक सीएल काटने का प्रावधान किया जा रहा है। पहले केवल मैनुअल रजिस्टर पर हस्ताक्षर के आधार पर भुगतान किया जाता था। इसके अतिरिक्त अन्य विभिन्न मुद्दों पर चर्चा होगी। इसमें स्ववित्त पोषित विद्यालयों में अध्यादेश 2018 के अनुसार शुल्क का निर्धारण किया जाना है। विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं का आधार कार्ड बनाना, शैक्षिक पंचाग के अनुसार अनुपालन करना एवं निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार पाठ्यक्रम शिक्षण कराया जाना। इसके अतिरिक्त विद्यालयी, संभागीय, प्रतियोगिता का आयोजन आदि पर चर्चा होगी। चर्चा में कक्षाओं में सीसीटीवी कैमरा, बच्चों की बायोमिट्रिक हाजरी, मिडडे मील की गुणवत्ता, शिक्षकों की उपस्थिति में पारदर्शिता एवं स्काउट गाइड एवं अन्य विभिन्न मुद्दों पर चर्चा इसी सभा में होगी।

By Jagran