जासं, कुंभनगर : दिगंबर अखाड़ा में आग लगने से किन्नर संन्यासियों को दीक्षित करने का कार्यक्रम टल गया। अब मकर संक्रांति स्नान पर्व के बाद उन्हें दीक्षा दी जाएगी। दीक्षा कार्यक्रम में जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर अवधेशानंद गिरि, जगदगुरु स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती सहित कई महात्मा शामिल होंगे। किन्नर संन्यासी जूना अखाड़ा के साथ मकर संक्रांति के शाही स्नान पर्व में शामिल होंगे। जबकि शाम को वह पुन: अमृत स्नान करने संगम जाएंगे।

 जूना अखाड़ा से जुडऩे के बाद किन्नर संन्यासी सोमवार को दीक्षित होने वाले थे। इसको लेकर जूना अखाड़ा ने तैयारी कर ली थी। लेकिन सुबह दिगंबर अखाड़ा में आग लगने के चलते दीक्षा का कार्यक्रम टाल दिया गया। सेक्टर 16 में गंगा तट पर बने अखाड़ा के पंडाल में किन्नर संन्यासियों के साथ बैठक करके मकर संक्रांति के बाद दीक्षा कराने का निर्णय हुआ। जूना अखाड़ा के मुख्य संरक्षक महंत हरि गिरि ने कहा कि दिगंबर अखाड़ा में आग लगने से हुए नुकसान से वह दुखी हैं। ऐसी स्थिति में दिगंबर अखाड़ा की मदद करने के अलावा कोई दूसरा कार्य नहीं कर सकते। किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी ने कहा कि उन्हें जब भी निर्देश मिलेगा वह तब दीक्षा लेने को तैयार हैं।

Posted By: Brijesh Srivastava