प्रयागराज, जागरण संवाददाता। आजादी के अमृत महोत्सव पर संगम नगरी में हर आज ओर जश्न का माहौल है। और हो भी क्‍यों न... आज ही के दिन 1947 में अपने देश ने आजादी की पहली सुबह देखी थी। स्‍वतंत्रता दिवस पर हर घर पर देश की आन, बान व शान का प्रतीक राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। हर ओर उत्सव जैसा माहौल है। सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों की धूम है और देश की आजादी के लिए वीरगति पाने वाले वीर शहीदों को नमन किया जा रहा है।

हर प्रतिष्‍ठानों में झंडारोहण हुआ : इस बार स्वतंत्रता दिवस पर निजी संस्थानों और प्रतिष्ठानों में अवकाश नहीं दिया गया था। अनिवार्य रूप से इन संस्थानों, प्रतिष्ठानों को खोलने व तिरंगा लहराने के निर्देश दिए गए थे, जिसका असर भी दिखाई दिया। हर संस्थान और प्रतिष्ठान खुले रहे और झंडारोहण हुआ।

प्रयागराज में लाखों तिरंगा लहरा रहे : प्रयागराज जिले में मकानों, दुकानों, संस्थानों, प्रतिष्ठानों पर लगभग 13 लाख तिरंगा लहरा रहा है। शहर से लेकर गांव तक तिरंगा यात्राएं निकाली गईं। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सोमवार को सुबह से ही आयोजनों की धूम रही। प्रभात फेरी से लेकर झांकी तक निकाली गई। जिले के 201 अमृत सरोवरों पर पूरे शान से तिरंगा लहराया गया। पुलिस लाइन में यूपी के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्‍ता, इलाहाबाद की सांसद डा. रीता बहुगुणा जोशी, फूलपुर की सांसद केशरी देवी पटेल समेत तमाम अधिकारी मौजूद रहे।

अमृत सरोवरों पर ध्‍वजारोहण व शहीदों को नमन : अमृत सरोवरों के भीटों पर बने चबूतरे पर सेनानियों और बलिदानियों के परिवार के लोगों ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इस मौके पर राष्ट्रगान के साथ ही झंडा गीत भी प्रस्तुत किया गया। मुख्य आयोजन पुलिस लाइन में हुआ। यहां भी सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। इसके अलावा सरकारी व निजी विद्यालयों, शैक्षणिक संस्थानों, विश्वविद्यालयों में ध्वजारोहण के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए।

स्‍कूली बच्‍चों ने निकली प्रभात फेरी : ग्राम पंचायत भवनों, ब्लाकों, तहसीलों व विभिन्न सरकारी, गैर सरकारी कार्यालयों में गोष्ठियां व सम्मान समारोह हुआ। गांव-गांव प्रभात फेरी निकाली गई। कस्बों और बाजारों में भी स्कूलों बच्चों ने प्रभात फेरी निकाली।

Edited By: Brijesh Srivastava