प्रयागराज, जेएनएन। यथा नामो तथा गुणो। यानी जैसा नाम, वैसा काम। यही रहा पैलेस सिनेमा में चल रहे 10वें जागरण फिल्म फेस्टिवल (जेएफएफ) में फिल्में पर्दे पर प्रदर्शित की जा रही हैं। खचाखच भरे हॉल में दर्शक दिल खोलकर जेएफएफ का इस्तकबाल कर रहे हैं। हॉल में मूवी का आनंद लिया तो परिसर में सेल्फी प्वाइंट पर जेएफएफ संग खुद को जोड़ यादों को मोबाइल कैमरे में कैद भी कर रहे। उनकी हसरत यही रही कि दैनिक जागरण के फिल्म फेस्टिवल का यह कारवां यूं ही चलता रहे और उनको साल दर साल मनोरंजन के साथ कुछ नई सीख भी देता रहे।

रुपहले पर्दे पर फिल्मों का दर्शकों ने लिया आनंद

रजनीगंधा के सहयोग से आयोजित इस फिल्म फेस्टिवल के दूसरे दिन सुबह से ही पर्दे पर फिल्मों के प्रदर्शन का सिलसिला दिन भर चलता रहा। रजनीगंधा एचीवर्स फिल्म 'आइ टीटाÓ, झलकी, विडोज आफ वृंदावन, ताशकंद फाइल्स फिल्में क्रमश: दिखाई गईं। रात 9.10 बजे शुरू हुई आखिरी फिल्म कसाई के साथ दूसरे दिन की फिल्मी महफिल की शुभरात्रि हुई।

जेएफएफ की यादों को समेटकर घर ले जाना चाहते हैं दर्शक

फिल्म देखकर निकलीं सुलेमसराय से आईं रेखा सिंह जेएफएफ की यादों को समेटकर घर ले जाना चाहती थीं। अपने मन की मुराद पूरी करने के लिए उन्होंने अपनी बेटियों दीपा और शैली सिंह के साथ सेल्फी ली और फोटो भी खिंचाई। बताया कि हम फिल्म फेस्टिवल का इंतजार कर रहे थे। मन में था कि क्या पता इस बार होगा भी कि नहीं, तभी दैनिक जागरण में इसकी जानकारी प्रकाशित हुई। उन्होंने बताया कि उनके पास पिछले साल के फिल्म फेस्टिवल का भी पास रखा है।

बोलीं नूपुर, वाकई दैनिक जागरण का यह अद्भुत आयोजन है

सेल्फी प्वाइंट पर नूपुर कपूर पहुंचीं और मोबाइल से सेल्फी ली और जेएफएफ संग यादों को मोबाइल कैमरे में कैद किया। बताया कि वह छात्रा हैं। उन्होंने अपने सीनियर्स से जेएफएफ के बारे में बहुत सुना था, अब देख लिया। कहा कि वाकई दैनिक जागरण का यह अद्भुत आयोजन है। मूवी देखने और सेल्फी संग जागरण के पिछले नौ वर्षों की यादों को लेकर सजाई गई स्टैंडी के साथ दर्शकों ने तस्वीरें लेकर फ्लैश बैक में भी फेस्टिवल का सफर किया।

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप