प्रयागराज, जेएनएन। वाराणसी रेलमार्ग पर रामनाथपुर रेलवे स्टेशन के निकट एक अधेड़ की ट्रेन से कटकर मौत हो गई। सूचना पर पहुंची जीआरपी रामबाग ने शव को कब्‍जे में लेकर अंत्‍य परीक्षण को भेज दिया। वहीं अधेड़ के पास से मिले कागजात के माध्‍यम से उसकी पहचान कराई। इस दौरान वहां ग्रामीणों की भीड़ लगी हुई थी। दूसरी ओर मीरजापुर रूट पर मालगाड़ी के इंजन में भैंस फंस गई। इससे रेलमार्ग प्रभावित रहा।

बिलखते परिजन भी घटनास्‍थल पर पहुंचे

  मुश्ताक 48 पुत्र मरउम इदरीश निवासी जैतपुर किसी काम से सोमवार की सुबह गया था। रामनाथपुर रेलवे स्‍टेशन के निकट वह रेलवे लाइन पार कर रहा था। इसी दौरान उधर से जा रही किसी ट्रेन की चपेट में वह आ गया। ट्रेन धड़धड़ाते हुए उसके ऊपर से निकल गई। वहां ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। इसी बीच सूचना रामनाथ रेलवे स्‍टेशन मास्‍टर को दी गई। उन्‍होंने जीआरपी रामबाग को हादसे की सूचना दी। जीआरपी रामबाग मौके पर पहुंची और शव को कब्‍जे में ले लिया। इसी बीच जानकारी होने पर मुश्‍ताक के परिजन भी वहां बिलखते हुए पहुंच गए।

ट्रेन के इंजन में फंसी भैंस, बाधित रहा प्रयागराज-मीरजापुर रेलमार्ग

सोमवार की दोपहर इलाहाबाद-मीरजापुर रेलमार्ग पर करछना के पचदेवरा रेलवे क्रासिंग के निकट मालगाड़ी गंतव्‍य की ओर जा रही थी। इसी बीच रेल ट्रैक पर एक भैंस आ गई। जब तक चालक ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोकता, भैंस इंजन में फंस गई। सूचना पर पहुंचे रेल कर्मियों ने स्‍थानीय ग्रामीणों की मदद से उसे किसी प्रकार बाहर निकाला। इस दौरान करीब दो घंटे तक इलाहाबाद-मीरजापुर ट्रैक प्रभावित रहा। वहीं जहां की तहां कई ट्रेनें भी खड़ी रहीं।

बेसहारा पशु अक्‍सर बनते हैं दुर्घटना का कारण

रेलवे ट्रैक पर अक्‍सर रेल ट्रैक पर बेसहारा जानवर आ जाते हैं। इससे तेज स्‍पीड की ट्रेनों पर ब्रेक लग जाता है। वहीं हादसे की संभावना भी बनी रहती है। यह मवेशी इलाहाबाद से फतेहपुर और मीरजापुर के रेलमार्गों पर इन दिनों अधिक हो रही है। इनका इलाज शायद रेलवे के पास भी नहीं है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप