प्रयागराज, जेएनएन। सर मुझे एक घंटे के लिए घर जाने दीजिए। पीएम से मिलने के लिए सजना है। उनके सामने खुद को सलीके से प्रस्तुत करना है। कैमरे के सामने होंगे, फोटो खिचेंगी, वीडियो बनेगा, सीधा प्रसारण भी होगा, ये मौका जिंदगी में बार-बार नहीं आता। दिव्यांग मीनू की यह बात सुनकर सहसा चौक गए थे एसपीजी के अफसर। बाद में हकीकत जानने के बाद उसे अफसरों ने इजाजत दे दी। शनिवार को प्रयागराज में आयोजित कार्यक्रम में पीएम ने मीनू को भी मंच पर उपकरण दिया था।

दिव्‍यांग महिलाओं के लिए चलाती हैं सिलाई कढ़ाई केंद्र

सलोरी की मीनू निषाद दिव्यांग महिलाओं के लिए सिलाई कढ़ाई केंद्र चलाती हैं। उनका नाम भी उन दस लाभार्थियों में शामिल था जिन्हें पीएम के हाथों उपकरण मिलना था। इसको लेकर मीनू रोमांचित थीं। यही कारण था कि एसपीजी की सुरक्षा में रहते हुए भी उसने यह निर्णय ले लिया जिसके बारे में किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। बिना किसी भय के उसने अपने मन की बात एसपीजी अफसरों के सामने रख दी। वजह पूछे जाने पर मीनू ने कहा वह पीएम के सामने होगी तो फोटोग्राफी भी होगी, वह पल स्वर्णिम होगा, इसलिए कार्यक्रम शुरू होने से एक घंटे पहले वह ब्यूटी पार्लर जाना चाहती हैैं। पहले तो एसपीजी ने मना कर दिया मगर मीनू के आग्रह के बाद उसे एक घंटे के लिए जाने दिया गया। एसपीजी की दो महिला कमांडो को उनके साथ पार्लर भेजा गया। पार्लर में सजने के बाद मीनू जब स्टेज पर पहुंची तो पीएम के लिए एक बुके भी ले गईं। 

तिलक लगवाने को बुलाए पुरोहित

दृष्टिबाधित विवेक मणि त्रिपाठी किसी भी शुभ कार्य के लिए जाते हैैं तो माथे पर तिलक अवश्य लगवाते हैैं। उन्होंने भी कार्यक्रम के पहले माथे पर तिलक लगवाने के लिए एसपीजी के अफसरों से अपने पुरोहित को बुलवाने की मांग की। एसपीजी के अधिकारियों ने उनकी भी बात मान ली। कार्यक्रम के दो घंटे पहले पुरोहित आए और विवेक के माथे पर तिलक लगाया।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस