प्रयागराज, जेएनएन। हाईकोर्ट के डिप्टी रजिस्ट्रार हेम सिंह को प्रताडि़त करने, उनके मामलों में कार्रवाई न होने पर राज्य मानवाधिकार आयोग ने अब प्रमुख सचिव गृह और एसएसपी प्रयागराज से जवाब मांगा है। उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने पीडि़त डिप्टी रजिस्ट्रार को तत्काल सुरक्षा मुहैया कराने और कार्रवाई कर रिपोर्ट देने को कहा है। 

पूर्व डीजीपी के खिलाफ की थी शिकायत

डिप्टी रजिस्ट्रार ने उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी एएल बनर्जी के खिलाफ शिकायतें की थी। कार्रवाई न होने पर उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की इजाजत मांगी थी। इसी के बाद राष्ट्रपति और सीएम कार्यालय ने जांच शुरू कराई। अब तक की सभी जांच रिपोर्टों को दबा दिया गया। ऐसे में राज्य मानवाधिकार आयोग ने रिपोर्ट देने को कहा है। 

डिप्टी रजिस्ट्रार बोले, जांच रिपोर्ट को पूर्व डीजीपी ने दबवा दिया था

डिप्टी रजिस्ट्रार हेम सिंह का आरोप है कि तमाम अफसरों द्वारा शुरू कराई गई 16 जांच रिपोर्ट को पूर्व डीजीपी ने दबवा दिया। इसी पर उन्होंने इच्छा मृत्यु मांगी थी। हेम सिंह पूर्व डीजीपी एएल बनर्जी के रिश्तेदार हैं। उनका आरोप है कि उन्हें प्रताडि़त किया जा रहा है। उनकी हत्या की कोशिश की गई, पुलिस ने हर बार मामले को दबा दिया। उन्होंने अदालत का भी दरवाजा खटखटाया है।

मानवाधिकार आयोग ने एसएसपी से एक महीने में कार्रवाई की रिपोर्ट देने को कहा

पहले मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने रिपोर्ट मांगी तो पुलिस ने जांच प्रचलित होने की रिपोर्ट दी। इसके बाद जांचों को दबा दिया गया। अब राज्य मानवाधिकार आयोग ने जांच रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए हेम सिंह को सुरक्षा मुहैया कराके रिपोर्ट देने और कार्रवाई न किए जाने के कारणों को पूछा है। साथ ही एसएसपी से एक महीने में कार्रवाई की रिपोर्ट देने को कहा है। बता दें कि हेम सिंह के घर संदिग्ध लोगों ने पहुंच उन्हें धमकी दी थी। हाईकोर्ट जाते वक्त उनका पीछा किया जाता है। 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस