इलाहाबाद (जेएनएन)। संगमनगरी में एक रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद की सरेआम पीटकर की गई हत्या के मामले में पुलिस ने मंगलवार को मुख्य आरोपित समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया। इसमें सीसीटीवी फुटेज में रिटायर्ड दारोगा को पीटते दिख रहे हिस्ट्रीशीटर जुनैद के बेटे शेबू उर्फ शीबू, यूसुफ और उसके ममेरे भाई इब्ने भी शामिल हैं। इसके साथ परिवार की महिलाओं समेत चार और लोगों को झगड़े की धाराओं में पकड़ा गया है। हत्या में प्रयुक्त डंडा व पाइप बरामद हो गया है। अन्य आरोपितों को पकडऩे के लिए पुलिस की दो टीमें लगातार दबिश दे रही हैं। 

मकान पर कब्जे को लेकर हत्या

शिवकुटी थाने के टॉप टेन अपराधी जुनैद और उसके परिवार के लोगों ने महिला पॉलीटेक्निक के पीछे सिलाखाना इलाके में रहने वाले 68 वर्ष के रिटायर्ड दारोगा को पकड़ कर उन्हें रॉड व पाइप से पीटकर मौत के घाट उतार दिया था। लाखों की कीमत के मकान पर कब्जे को लेकर यह हत्या हुई। सीसीटीवी फुटेज में दारोगा पर हमले की तस्वीरें कैद हुई हैं। हिस्ट्रीशीटर जुनैद समेत दस लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। एसएसपी नितिन तिवारी के मुताबिक, रिटायर्ड दारोगा की हत्या से पहले दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ था।  वीडियो में पीटते दिख रहे आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि जुनैद की पत्नी सना, बेटी हिना और मेहंदी व रजिक को भी पकड़ा गया है। दोपहर में अब्दुल समद के शव का पोस्टमार्टम हुआ। सिर में गंभीर चोट और अधिक खून बहने की वजह से उनकी मौत हुई। पोस्टमार्टम के बाद परिवार ने शव को प्रतापगढ़ के चिलबिला स्थित पैतृक घर ले जाकर दफनाया।

हाईकोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान 

अब्दुल समद खां की हत्या का हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। कोर्ट ने कहा है कि सीसीटीवी में घटना की पूरी तस्वीरें कैद हुई हैं, इसके बाद भी आरोपितों की अब तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। कोर्ट ने अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल को निर्देश दिया कि एसएसपी के मार्फत पांच सितंबर को पूरी जानकारी उपलब्ध कराएं। यह आदेश मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले तथा न्यायमूर्ति सीडी सिंह की खंडपीठ ने दिया है। 

Posted By: Dharmendra Pandey