प्रयागराज, जागरण संवाददाता। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के संघटक कालेजों से शोध करने वालों के लिए अच्‍छी खबर है। विश्‍वविद्यालय की तर्ज पर अब संघटक कालेजों के शोधार्थियों को भी फेलोशिप दी जाएगी। डीन कालेज एंड डेवलपमेंट की तरफ से इसकी कवायद भी शुरू कर दी गई है। कालेजों के प्राचार्यों को पत्र भेजकर शोधार्थियों का ब्योरा मांगा गया है। वर्ष 2019 में इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति प्रोफेसर रतन लाल हांगलू ने संघटक कालेजों को भी पीएचडी की मंजूरी दी थी। हालांकि, यहां के शोधार्थियों को फेलोशिप नहीं मिलती थी।

विश्‍वविद्याल में शोधार्थियों को प्रतिमाह आठ हजार रुपये मिलता है फेलोशिप

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में शोधार्थियों को प्रतिमाह आठ हजार रुपये फेलोशिप दी जाती है। वहीं संघटक कालेजों के शोधार्थियों को फेलोशिप देने की मांग पिछले दिनों इलाहाबाद विश्वविद्यालय महाविद्यालय शिक्षक संघ (आक्टा) ने उठाई थी। आक्टा के अध्यक्ष डाक्टर एसपी सिंह ने कहा था कि संयुक्त शोध प्रवेश परीक्षा (क्रेट) इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय ही आयोजित करता है। चाहे वह प्रवेश महाविद्यालयों में हों या विश्वविद्यालय में। इस लिहाज से यदि विश्वविद्यालय में शोधार्थी को प्रतिमाह आठ हजार रुपये फेलोशिप दी जाती है तो महाविद्यालयों में भी इसका लाभ मिलना चाहिए।

आक्‍टा के अध्‍यक्ष ने की थी मांग

आक्‍टा के अध्‍यक्ष ने तर्क दिया कि कम मेरिट का विद्यार्थी विश्वविद्यालय में प्रवेश पाकर फेलोशिप पाए और अधिक मेरिट का विद्यार्थी महाविद्यालय में प्रवेश पाकर इससे वंचित कैसे हो सकता है। इसी बीच डीन कालेज एंड डेवलपमेंट प्रोफेसर पंकज कुमार की तरफ से सभी कालेजों के प्राचार्यों से पूरा विवरण मांगा है। इसके बाद विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को पत्र भेजकर ग्रांट की मांग की जाएगी।

डीन कालेज एंड डेवलपमेंट ने कहा- यूजीसी से मांगा जाएगा बजट

डीन कालेज एंड डेवलपमेंट प्रोफेसर पंकज कुमार कहते हैं कि सभी कालेजों के प्राचार्य को पत्र भेजकर विवरण मांगा गया है। इसके बाद यूजीसी से बजट मांगा जाएगा। बजट आवंटित होते ही कालेजों के शोधार्थियों को फेलोशिप दे दी जाएगी।

 

Edited By: Brijesh Srivastava