प्रयागराज, जेएनएन। केजेएस सीमेंट इंडिया लिमिटेड में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) चोरी का मामला सामने आया है। प्रयागराज स्थित सेंट्रल जीएसटी, सेंट्रल एक्साइज और डायरेक्टर जनरल आफ जीएसटी इंटेलीजेंस (डीडीजीआइ) की टीम ने कंपनी के मप्र में मैहर स्थित प्लांट में जांच की तो 17.2 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी पकड़ी गई। इस कार्रवाई के बाद प्रयागराज के नैनी में रीवा रोड स्थित सीमेंट गोदाम सील कर दिया गया है। 

प्रयागराज में सलाना कारोबार करीब तीन सौ करोड़ रुपये का है

केजेएस सीमेंट का प्लांट मप्र के सतना स्थित मैहर में है। इसकी अधिकतर सप्लाई उप्र के प्रयागराज और आसपास के जिलों के अलावा कुशीनगर, आगरा, कानपुर में होती है। मध्य प्रदेश के कई जिलों और दिल्ली में भी सप्लाई जाती है। प्रयागराज में ही इसका सलाना कारोबार करीब तीन सौ करोड़ रुपये का है। 

जीएसटी चोरी की शिकायत पर मैहर प्‍लांट में हुई थी छापेमारी

पिछले दिनों प्रयागराज स्थिति सेंट्रल जीएसटी के अफसरों को पता चला था कि सीमेंट बिक्री में जीएसटी की चोरी हो रही है। इसलिए यहां के अफसरों ने मध्य प्रदेश की टीम के साथ पांच अगस्त को मैहर प्लांट में छापा मारा। पांच से 11 अगस्त तक चली जांच में 17.2 करोड़ रुपये की जीएसटी चोरी सामने आई। फिर इस सीमेंट की जहां-जहां सप्लाई होती है, वहां छापेमारी की गई। 

कंपनी के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी गिरफ्तार

प्रयागराज में नैनी स्थित रीवा रोड पर इसके गोदाम को सील कर दिया गया। यहां पर 15 हजार बोरी सीमेंट है। डीलर से खरीद व बिक्री के कागजात जब्त कर लिए गए। ऐसी ही कार्रवाई अन्य जिलों के गोदाम पर की जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि सीमेंट पर 28 फीसद जीएसटी लगता है, लेकिन मैहर स्थित प्लांट से लेकर गोदाम और फिर फुटकर ग्राहक तक बिक्री में कहीं भी जीएसटी नहीं दी गई। कंपनी के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी कौशल सिंह सिंघवी को गिरफ्तार कर लिया गया है। फैक्ट्री मालिक पवन कुमार अहलूवालिया फरार है। वह कोयला घोटाले में भी आरोपित बताए जा रहे हैं।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस