प्रयागराज,जेएनएन। स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के डाक्टर जिसे गैस्ट्रो का मरीज समझकर दो दिन से इलाज कर रहे थे वह कोरोना पॉजिटिव निकल गया। कोरोना की पुष्टि होते ही इलाज में लगे डॉक्टर और नर्स के होश उड़ गए। आनन फानन में मरीज को गैस्ट्रोलॉजी विभाग से निकालकर कोरोना संक्रमित वार्ड में भर्ती कराया गया। इलाज में लगे डॉक्टर, नर्स समेत करीब दो दर्जन लोगों को होम क्वारंटाइन में भेजा गया। इन लोगों की भी सैंपलिंग कराई जाएगी। उधर जिले में बुधवार को मुंबई से आए नौ और लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिले में अब संक्रमितों की संख्या 56 हो गई है।

दस दिन पहले मुंबई से लौटा है, पेट दर्द की शिकायत पर एसआरएन में भर्ती कराया गया

दस दिन पहले सरायममरेज का रहने वाला एक व्यक्ति मुंबई से लौटा था। पेट में दर्द होने पर उसे स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के गैस्ट्रोलाजी विभाग के वार्ड में भर्ती कराया गया। चिकित्सकों ने इलाज शुरू कर दिया। मंगलवार को उसको खांसी व जुकाम की शिकायत हुई तो उसकी कोरोना जांच कराई गई। बुधवार की दोपहर में उसकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। इसकी जानकारी मिलते ही चिकित्सकों व अन्य स्टाफ में हड़कंप मच गया। मरीज को कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया। गैस्ट्रो वार्ड को सैनिटाइज कराने के बाद सील कर दिया गया। जो लोग उसके इलाज में लगे थे उन्हेंं होम क्वारंटाइन में भेज दिया गया। एसआरएन के नोडल अधिकारी डॉ. सुजीत वर्मा ने बताया कि मरीज मुंबई से आया था उसमें पहले कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे। अब उसमें कोरोना की पुष्टि हुई तो उसे उस वार्ड में शिफ्ट करा दिया गया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस