जागरण संवाददाता, प्रयागराज : माफिया के रूप में चिह्नित पूर्व ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्रा का गैंग भी जल्द ही रजिस्टर्ड होगा। यमुनापार से लेकर जिले के अलग-अलग स्थानों पर रहने वाले उसके करीबियों की गतिविधि के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है।

औद्योगिक थाना क्षेत्र में लवायनकला गांव निवासी दिलीप मिश्रा चाका का ब्लाक प्रमुख रह चुका है। सपा नेता समेत दो लोगों की हत्या की सुपारी के देने के आरोप में वह और उसका बेटा तथा एक शूटर नैनी जेल में बंद हैं। पुलिस को पता चला है कि कई ऐसे अपराधी व दूसरे शख्स हैं, जो जमीन के अवैध धंधे में पूर्व ब्लाक प्रमुख के मददगार रहे हैं। इसलिए अलग-अलग थानों में उसके खिलाफ दर्ज मुकदमे के सह अभियुक्तों के बारे पता लगाया जा रहा है। खान मुबारक गैंग का शार्प शूटर पूर्व ब्लाक प्रमुख के कॉलेज में ही कई माह तक पनाह लिए हुआ था। पूर्वांचल के माफिया मुख्तार अंसारी के शूटर से भी कनेक्शन की बात सामने आ चुकी है। बर्खास्त सिपाही समेत कई लोग पूर्व ब्लाक प्रमुख के लिए काम करते थे, जो इस वक्त जेल मे हैं। हाल ही में पुलिस ने पार्षद व हिस्ट्रीशीटर बच्चा पासी का गैंग रजिस्टर्ड किया है।

राजेश यादव की तलाश तेज: इस बीच झूंसी निवासी हिस्ट्रीशीटर राजेश यादव की तलाश भी तेज हो गई है। एसओजी, झूंसी और आसपास के थाने की पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए जाल बिछा रही है। करीबियों की भी लोकेशन ट्रेस की जा रही है।

'दिलीप मिश्रा समेत कई ऐसे अपराधी हैं, जो गिरोह बनाकर गैरकानूनी काम कर रहे हैं। उनके सभी के साथियों का आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है। इनके गैंग का पंजीकरण आगे की कार्रवाई की जाएगी।'

केपी सिंह, आइजी-प्रयागराज

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस