प्रयागराज : प्रतापगढ़ जनपद में सांगीपुर थाना क्षेत्र के देउम चौराहे पर चार दिन पहले हुई युवक की हत्या का राज खुल गया है। प्रेमिका से नजदीकी बढ़ाने के कारण उसने अपने जिगरी दोस्त का कत्ल कर दिया था। हत्या के बाद फरार चल रहे 10 हजार के इनामी बदमाश को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। हालांकि दूसरा आरोपित अभी फरार है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

क्या था मामला, कैसे हुई थी हत्या

सांगीपुर थाना क्षेत्र के भोजपुर (पूरे सेवकराम) गांव निवासी निखिल तिवारी पुत्र राकेश तिवारी 24 फरवरी को पश्चिम देउम गांव में मुन्नन तिवारी के घर तिलकोत्सव में शामिल होने गया था। उसी कार्यक्रम में उसके जिगरी दोस्त चंदन तिवारी पुत्र राजेंद्र तिवारी निवासी देउम पश्चिम व सौरभ ङ्क्षसह पुत्र सुनील ङ्क्षसह निवासी पिचूरा भी शामिल होने गए थे। निखिल के पहले ही चंदन, सौरभ वहां से चले आए और देउम चौराहे पर खड़े होकर उसके आने का इंतजार करने लगे। चौराहे पर निखिल के पहुंचते ही उसे रोककर चंदन, सौरभ ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

पिचूरा गेट के पास से चंदन को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इस वारदात में निखिल के पिता राकेश ने चंदन तिवारी, सौरभ ङ्क्षसह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इस बीच गुरुवार देर शाम पिचूरा गेट के पास सांगीपुर एसओ रतनलाल कनौजिया एवं स्वॉट टीम प्रभारी डीडी ङ्क्षसह ने घेरेबंदी करके चंदन तिवारी पुत्र राजेंद्र तिवारी निवासी देउम पश्चिम को गिरफ्तार कर लिया। उस पर दस हजार रुपये का इनाम घोषित है।

हत्या का कारण बना महिला से नजदीकी

एसओ रतनलाल कनौजिया ने बताया कि निखिल तिवारी की रामगंज में मोबाइल की दुकान थी। दुकान पर आने जाने के दौरान एक महिला से निखिल की करीबी बढ़ गई थी। वह महिला पहले चंदन तिवारी की प्रेमिका थी। निखिल, चंदन, सौरभ तीनों जिगरी दोस्त थे। चंदन को यह लगने लगा कि महिला की नजर में उसकी कद्र कम हो गई है। इसी रंजिश में निखिल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। जिस पिस्टल से हत्या की गई थी, चंदन के अनुसार वह सौरभ के पास है। सौरभ की तलाश की जा रही है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस