प्रयागराज, जागरण संवाददाता। जीआरपी ने आउटर पर खड़ी ट्रेनों के अलावा सफर के दौरान भी यूपी समेत अन्य राज्यों में यात्रियों के मोबाइल चुराने वाले गिरोह का खुलासा किया है। इसमें तीन युवकों समेत एक नाबालिग शामिल है। जीआरपी ने उनके पास से 53 मोबाइल फोन भी बरामद किया है। ये सभी कई साल से चोरी में लिप्त थे। पकड़े जाने पर जेल से छूटते तो फिर चोरी की कारगुजारी करने लगते।

शक पर रोका और तलाशी ली तो मिले चोरी के ढेरों मोबाइल फोन

जीआरपी प्रभारी निरीक्षक राजीव रंजन उपाध्याय ने बताया कि टीम की ओर से लगातार संदिग्ध वस्तुओं के चेकिंग और यात्रियाें की सुरक्षा के लिए चलाया जाता है। शुक्रवार उपनिरीक्षक वीरेन्द्र प्रसाद सरोज के नेतृत्व में टीम आउटर पर जांच कर रही थी। इस दौरान चार संदिग्ध युवक दिखाई देने जिनकी जांच करने पर उनके पास से चोरी के 53 मोबाइल बरामद हुए। पकड़े गए युवकों में रामकुमार बिंद, कन्हैया सोनी, श्याम जी सोनी व नाबालिग शामिल है।

17 से 21 साल के लड़के कई साल से ट्रेनों में मार रहे थे हाथ

जीआरपी के हत्थे चढ़े चोर गिरोह के सभी सदस्य 17 से 21 वर्ष के हैं। चारों ने स्वीकार किया कि वे शौक को पूरा करने के लिए चोरी करने का रास्ता चुना है। कन्हैया पहले से ही चोरी करता रहा है और तीन युवक भी उसके बहकावे में आकर चोरी करने लगे। चोर गिरोह के सदस्य आउटर पर खड़ी ट्रेनों पर सवार होकर चोरी करने के साथ ही दिन में चलती ट्रेनों से भी यात्रियों के मोबाइल छीन लेते थे। इस दौरान कई बार यात्री गिरकर चोटिल भी हो चुके हैं। गिरफ्तार करने वाली टीम में उपनिरीक्षक राजेश कुमार यादव, उपनिरीक्षक अवधेंद्र त्रिपाठी, उप निरीक्षक मो. गुलाम खान शामिल रहे।

Edited By: Ankur Tripathi